सर्विस टैक्स की नोटिस मिलने से व्यापारी हो रहे परेशान, पुराने मामलों में रिकवरी का भार!

tax

सूरत शहर तथा दक्षिण गुजरात के कई व्यापारी इन दिनों सर्विस टैक्स के नोटिस के जाल में फँस गए हैं। जीएसटी लागू होने के बाद से सर्विस टैक्स के लंबित मामलों को नई का निस्तारण करने के लिए मार्च 2023 की समय सीमा तय की गई थी। जिसे लेकर डिपार्टमेंट लंबे समय से कार्रवाई कर रहा था और जिन करदाताओं के मामले सर्विस टैक्स में लंबित थे उन्हें नोटिस दी जा रही थी। जिन करदाताओं ने समय पर नोटिस का जवाब दे दिया वह तो बच गए लेकिन जिन्होने नोटिस का जवाब देना उचित नहीं समझा या किसी कारण से जवाब नहीं दिया। अब उनके ख़िलाफ़ डिपार्टमेंट ने डिमांड तय कर दी है। आगामी दिनों में इसकी वसूली के लिए कार्रवाई शुरू की जाएगी। डिमान्ड नोटिस मिलने के बाद व्यापारी परेशान हो गए है।हालाँकि इसके बीच में व्यापारी 60 दिनों के भीतर अपील में सुनवाई के लिए जा सकते हैं।


मिली जानकारी के अनुसार वर्ष 2017 मे जीएसटी का क़ानून देश में लागू हो गया। इसके बाद सर्विस टैक्स सहित कई क़ानून नाबूद कर दिए गए थे। सर्विस टैक्स का क़ानून नाबूद नियम होने के बाद जो भी पिछले मामले सर्विस टैक्स मैं किसी कारणवश लंबित रह गए थे। उन्हें जल्द से जल्द पूरा या पाँच साल में पूरा करने के लिए डिपार्टमेंट को सूचना दी गई थी। इस तरह सर्विस टैक्स के तमाम मामलों को निपटाने के लिए 31 मार्च की समय सीमा तय कर दी गई थी। जिसके चलते डिपार्टमेंट द्वारा वर्ष 2022 से हर तीन महीने के अंतराल में व्यापारियों को संबंधित डॉक्यूमेंट और जवाब देने के लिए नोटिस भेजा जा रहा था। कई व्यापारियों ने डिपार्टमेंट के आग्रह के अनुसार वी पेश कर दिए अपने जवाब भी दे दिए थे। जिन मामलों में डिपार्टमेंट को व्यापारी के संतोष कारक जवाब लगे वह मामले सुलझा दिए गए लेकिन जिनमें शंकास्पद मामला लगा ऐसे कई मामले अभी भी पेंडिंग है।जिन करदाताओं ने कोई जवाब नहीं लिखाया या डॉक्यूमेंट भी नहीं दिए ऐसे हज़ारों मामलों मे डिपार्टमेंट ने नोटिस निकाल दिया है।

— 60 दिन में व्यापारी कर सकते हैं अपील
जिनमें मामलों में व्यापारियों को लगता है कि डिपार्टमेंट की ओर से एक तरफ़ा कार्रवाई की गई है या उन्हें डिपार्टमेंट की कार्रवाई से असंतोष है।ऐसे मामलों में व्यापारी डिमांड की रक़म का साढ़े सात प्रतिशत हिस्सा जमा करके अपील में मामला ले जा सकते हैं।हालाँकि उन्हें 60 दिन के भीतर ही अपील करनी होगी।

तीर्थ गोपीकॉन लिमिटेड आईपीओ के जरिए 44.40 करोड़ रुपए जुटा रही है, 8 अप्रैल को खुलेगा आईपीओ

एनएसई इमर्ज प्लेटफॉर्म पर सूचीबद्ध करने के लिए 111 रुपए प्रति शेयर के भाव पर 10 रुपए फेसवैल्यू के 39.99 लाख इक्विटी शेयर जारी करेगी कंपनी

मुख्य बिंदु: ·         कंपनी का आईपीओ 8 अप्रैल से 10 अप्रैल तक खुलेगा।·         आवेदन के लिए न्यूनतम लॉट साइज 1200 शेयर और न्यूनतम आईपीओ आवेदन राशि 1.33 लाख रुपए है।·         इश्यू के माध्यम से जुटाई गई धनराशि का उपयोग कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों को पूरा करने के लिए किया जाएगा।·         वित्त वर्ष 2023-24 के 10 महीनों में कंपनी ने 69.70 करोड़ रुपए का राजस्व और शुद्ध लाभ 7.84 करोड़ रुपए दर्ज किया है।·         31 जनवरी 2024 तक कंपनी की ऑर्डर बुक  904.98 करोड़ रुपए थी।·         इश्यू के प्रमुख प्रबंधक की जिम्मेदारी ‘इंटरएक्टिव फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड’ द्वारा निभाई जा रही है।

Ahmedabad, 05 April 2024: तीर्थ गोपीकॉन लिमिटेड इंजीनियरिंग, कंस्ट्रक्शन और इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट में माहिर है और मुख्य रूप से सड़कों, सीवरेज और जल वितरण परियोजनाओं पर ध्यान केंद्रित कर रही है। कंपनी एसएमई आईपीओ से 44.40 करोड़ रुपए जुटाने की योजना बना रही है। कंपनी को नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के एनएसई इमर्ज प्लेटफॉर्म पर अपना पब्लिक इश्यू लॉन्च करने की मंजूरी मिल गई है। कंपनी का आईपीओ 8 अप्रैल को सदस्यता के लिए खुलकर 10 अप्रैल,2024 को बंद होगा। कंपनी द्वारा आईपीओ की आय का उपयोग कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों को पूरा करने सहित कंपनी की विस्तार योजनाओं में पूंजीगत निवेश करने के लिए किया जाएगा। इश्यू के प्रमुख प्रबंधक की जिम्मेदारी ‘इंटरएक्टिव फाइनेंशियल सर्विसेज लिमिटेड’ द्वारा निभाई जा रही है।

कंपनी आईपीओ के तहत कंपनी द्वारा 111 रुपये प्रति इक्विटी शेयर (प्रति इक्विटी शेयर 101 रुपये के प्रीमियम सहित) के भाव पर 10 रुपए फेसवैल्यू के 39.99 लाख फ्रेश इक्विटी शेयर जारी किए जाएंगे।  कंपनी की योजना इश्यू से प्राप्त 44.40 करोड़ रुपये की राशि का उपयोग करने की है, जिसमें से कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं के लिए 33.40 करोड़ रुपये और सामान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों की पूर्ति के लिए 10.24 करोड़ रुपए उपयोग किए जाएंगे। आवेदन के लिए न्यूनतम लॉट साइज 1200 शेयर है जो प्रति आवेदन 1.33 लाख रुपये के निवेश के बराबर है। आईपीओ में रिटेल निवेशकों के लिए शुद्ध ऑफर के 50% शेयर आरक्षित किए गए हैं।

वर्ष 2019 में निगमित, तीर्थ गोपीकॉन लिमिटेड मध्य प्रदेश में सड़क निर्माण, सीवरेज और जल आपूर्ति के व्यवसाय में संलग्न है। कंपनी का व्यवसाय मध्य प्रदेश राज्य और मुख्य रूप से इंदौर, छतरपुर, सागर, डिंडोरी, जबलपुर और उज्जैन शहर में केंद्रित है। कंपनी धीरे-धीरे अन्य राज्यों में भी अपनी उपस्थिति बढ़ा रही है। कंपनी आईएसओ 9001:2015, आईएसओ 14001:2015 और आईएसओ 45001:2018 से प्रमाणित है। कंपनी  ऑल क्लास सिविल और इलेक्ट्रिकल कॉन्ट्रैक्टर के रूप में भी पंजीकृत है और कंपनी ने सरकारी विभाग की विभिन्न परियोजनाओं को क्रियान्वित किया है। कंपनी ने विभिन्न केंद्रीय/राज्य सरकार के विभागों जैसे आईएससीडीएल, आईएमसी, यूएससीएल, यूएमसी, एमपीजेएनएम आदि के लिए एक पंजीकृत सिविल ठेकेदार के रूप में काम किया है और निजी क्षेत्र के लिए निर्माण कार्य भी किए हैं। 31 जनवरी 2024 तक कंपनी की ऑर्डर बुक 904.98 करोड़ रुपए दर्ज की गई थी।

कंपनी ने भवन निर्माण, जल आपूर्ति, पाइपलाइन, सीवेज नेटवर्क, सीवेज उपचार संयंत्र, नाला नल, पुन: उपयोग नेटवर्क, ओवरहेड टैंक, जीएसआर, सड़क निर्माण, झील पुनर्वास इत्यादि जैसी सिविल इंजीनियरिंग परियोजनाओं की एक विस्तृत श्रृंखला शुरू की है। फरवरी तक 29, 2024 तक कंपनी के विभिन्न विभागों में कुल 164 स्थायी कर्मचारी (कार्यकर्ताओं सहित) कार्यरत थे।

तीर्थ गोपीकॉन लिमिटेड के संस्थापक और प्रबंध निदेशक डॉ. महेशभाई कुंभानी ने कहा, “कंपनी ने वर्षों से उत्कृष्ट परिचालन और वित्तीय प्रदर्शन दर्ज किया है। कंपनी का वर्तमान कारोबार मध्य प्रदेश में केंद्रित है और धीरे-धीरे हम अन्य राज्यों में विस्तार करने की योजना बना रहे हैं। हमें उम्मीद है कि प्रस्तावित सार्वजनिक निर्गम के बाद, हम अपनी विकास रणनीति को इस तरह से क्रियान्वित करने में सक्षम होंगे कि लगातार गुणवत्ता वाले उत्पाद वितरित करते हुए सभी हितधारकों को शानदार मुनाफा मिल सके।”

कंपनी ने वर्ष दर वर्ष उत्कृष्ट परिचालन और वित्तीय प्रदर्शन दर्ज किया है। कंपनी ने पिछले कुछ वर्षों में राजस्व और लाभप्रदता में कई गुना वृद्धि देखी है। 31 जनवरी 2024 को समाप्त वित्त वर्ष 2023-24 के 10 महीनों में कंपनी ने 69.70 करोड़ रुपए का राजस्व और शुद्ध लाभ 7.84 करोड़ रुपए दर्ज किया है, जबकि कंपनी ने वित्त वर्ष 2022-23 में कंपनी ने 39.15 करोड़ रुपए का राजस्व एवं 1.80 करोड़ रुपए का शुद्ध लाभ अर्जित किया था। 31 जनवरी 2024 तक, कंपनी की कुल नेटवर्थ 15.72 करोड़ रुपए, रिजर्व एंड सरप्लस 7.73 करोड़ रुपए और असेट 137.20 करोड़ रुपए दर्ज की गई थी। 31 जनवरी 2024 तक कंपनी का आरओई 66.40%, आरओसीई 48.40% और आरओएनडब्लू 22.72% दर्ज किया गया था। कंपनी के शेयर एनएसई के इमर्ज प्लेटफॉर्म पर सूचीबद्ध होंगे।

IPO Highlights – Teerth Gopicon Ltd
IPO Opens onApril 8, 2024
IPO Closes onApril 10, 2024
Issue PriceRs. 111 Per Share
Issue Size39.99 lakh shares – up to Rs. 44.40 crore
Lot Size1200 Shares
Listing onNSE Emerge Platform of National Stock Exchange

भारत में डॉ एस्क्लेपियस का पहला सम्पूर्ण मल्टीविटामिन सिरप न्यूट्राज़ोन प्रो, डॉ परख खिची द्वारा।

भारतीय स्वास्थ्य सेक्टर में एक नई उम्मीद की किरण चमकी है। डॉ. एस्क्लेपियस फार्मास्युटिकल कंपनी ने ‘न्यूट्राजोन प्रो’ मल्टीविटामिन सिरप का लॉंच किया है, जो एक वास्तविक चमत्कार से कम नहीं है। यह सिरप न केवल विटामिन्स और मिनरल्स का समृद्ध स्रोत है, बल्कि इसमें प्रोबायोटिक्स, लाइसीन, लाइकोपीन, ओमेगा-3 फैटी एसिड्स, विटामिन K2, कोलीन, और कोएंजाइम क्यूटेन जैसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व भी हैं। इस सिरप का नियमित सेवन न केवल शारीरिक स्वास्थ्य को संतुलित रखता है, बल्कि यह मानसिक स्वास्थ्य को भी सुधारता है और साथ-साथ त्वचा और बालों के लिए भी फायदेमंद है।

कंपनी के CEO डॉ. परख खिची ने इस महत्वपूर्ण कदम के संदर्भ में कहा, “हम इस सिरप को भारतीय जनता के लिए एक संपूर्ण स्वास्थ्य समाधान के रूप में पेश कर रहे हैं। हमारा लक्ष्य है कि हर कोई इसका लाभ उठा सके और स्वस्थ जीवन की ओर एक कदम आगे बढ़ सके। और यह बैच हमारे पूज्य पिताजी डॉ. दिलीप खिची के लिए समर्पित है।”

‘न्यूट्राजोन प्रो’ सिरप का नियमित सेवन करते हुए भारतीय लोग स्वस्थ और खुशहाल जीवन की ओर एक नया कदम बढ़ा सकते हैं। यह सिरप उन सभी लोगों के लिए उपयुक्त है जो अपने स्वास्थ्य का ध्यान रखना चाहते हैं और एक सकारात्मक जीवन जीना चाहते हैं।

http://www.drasclepius.in/

वर्षों बाद मार्च में पेमेंट की लगी झड़ी: सुनील कुमार जैन


-एसजीटीटीए की बोर्ड मीटिंग में व्यापारियों ने की खुशी जाहिर
-एमएसएमई में सुधार की मुहिम जारी रखनी होगी: सचिन अग्रवाल

सूरत। साउथ गुजरात टेक्सटाइल ट्रेडर्स एसोसिएशन (एसजीटीटीए) की बोर्ड मीटिंग में मार्च माह में कमजोर ग्राहकी के बाद भी पेमेंट की रफ्तार रहने पर खुशी जाहिर की गई। बोर्ड डायरेक्टर्स ने बताया कि मार्च के अंतिम पखवाड़े में व्यापारियों के पुराने-नए सभी तरह के पेमेंट बड़ी मात्रा में मिले, जिससे उनके चेहरे खिल उठे हैं।

एसजीटीटीए के बोर्ड रूम में 1 अप्रैल की शाम छह बजे हुई मासिक बोर्ड मीटिंग की अध्यक्षता करते हुए संस्था के अध्यक्ष सुनील कुमार जैन ने नए वित्तीय वर्ष पर सभी के अच्छे स्वास्थ्य और व्यापारी की कामना की। उन्होंने कहा कि एमएसएमई की जनवरी से मार्च की यात्रा के दौरान व्यापार में ग्राहकी का थोड़ा नुकसान जरूर हुआ। परन्तु गुड्स रिटर्न का डर भ्रामक साबित हुआ। आशंका के विपरीत गुड्स रिटर्न बहुत अधिक नहीं आया है। पेमेंट की स्थिति पर उन्होंने कहा कि मार्च के तीसरे और चौथे सप्ताह में पेमेंट की बाढ़ सी आ गई। फरवरी और मार्च में रिटेल बाजार में ग्राहकी कमजोर रही है। बावजूद इसके पेमेंट की जो रफ्तार देखने को मिली वह आशा से भी अधिक है। एमएसएमई के प्रभाव के संबंध में उन्होंने कहा कि वर्ष 2024-25 में व्यापार अनुमानतः 25 पर्सेंट कम होगा। होलसेलर से लेकर रिटेलर तक अब जरूरत के हिसाब से कपड़ा खरीदता नजर आ रहा है। हर स्तर पर संभलकर व्यापार होने लगा है। इस कारण से व्यापार थोड़ा कम होगा। मगर स्वच्छ होगा। चुनाव के बाद नई सरकार के गठन के साथ ही एमएसएमई के सुधार के लिए एसजीटीटीए अपनी पूरी ताकत लगाएगी। जब भी आवश्यक होगा संस्था संबंधित मंत्रालयों के संपर्क में रहेगी। महामंत्री सचिन अग्रवाल ने कहा कि एमएसएमई में सुधार की मुहिम संस्था को जारी रखनी होगी। ट्रेडर्स भाइयों ने एमएसएमई के मद्देनजर अपनी कैटेगरी बदली है उसकी स्थिति डिपार्टमेंट की ओर से अभी क्लियर नहीं है। यह एक बड़ा सवाल है। रिफरेंस एप की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि सोशल मीडिया के माध्यम से हमें इसका प्रचार प्रसार करने की आवश्यकता है। सूरत के अच्छे ट्रेडर्स भाई, एजेंट और आढ़तिया साथ ही दिसावर के व्यापारी हमें वीडियो उपलब्थ कराते हैं तो इसके सुखद परिणाम सामने आएंगे। मीटिंग में आशीष मल्होत्रा, संतोष माखरिया, राम खंडेलवाल, छीतरमल जैन, प्रदीप केजरीवाल, सुदर्शन मातलहेलिया ने भी अपने विचार रखे। अंत में मीटिंग का समन्वय कर रहे सुनील मित्तल ने भी अपनी बात रखी और सभी का आभार व्यक्त किया।

हाफले द्वारा नोइल लाइट एयर फ्रायर

Noil Lite Air Fryer by Hafele

एक स्वस्थ जीवनशैली अक्सर गहरे तले हुए खाद्य पदार्थों से समझौता करती है। जहां तले-भुने भोजन से आपके स्वाद को आनंद मिलता है, वहीं ऐसा खाना आपको उतनी ही पश्चाताप भी देता है।

हाफले की नॉयल लाइट एयर फ्रायर खाद्य को पकाने के लिए एक स्वस्थ विकल्प प्रदान करती है, जो एक संकुचित पैकेज में है। अब किसी भी पश्चाताप के बिना अपनी गहरी तली हुई खाद्य की इच्छाओं को पूरा करें! इसके नाम के मुताबिक, यह एयर फ्रायर खाद्य को कम से कम तेल के साथ तैयार करता है। इंटेलिजेंट रैपिड एयर टेक्नोलॉजी स्मार्ट रूप से तापमान को समायोजित करती है ताकि पकाया गया भोजन बाहर से कुरकुरा और अंदर से नरम हो, साथ ही इसमें 90% कम वसा का उपयोग होता है। इसके अलावा, इस एयर फ्रायर के साथ आप अपनी पसंद के अनुसार खाद्य को बेक, ग्रिल, रोस्ट, और फिर से गरम कर सकते हैं! एक आकर्षक डिजाइन, 8 प्री-सेट प्रोग्राम के साथ टच पैनल और एयरोडायनामिक डिजाइन वाले नॉन-स्टिक फ्रायर बास्केट के साथ, नॉयल लाइट एक नए खाना पकाने का अनुभव की गारंटी देता है: जहां स्वाद स्वास्थ्य के समान हो।

हाफले का नॉयल लाइट एयर फ्रायर खाना पकाने का एक स्वस्थ विकल्प प्रदान करता है, एक संकुचित पैकेज में। अब किसी भी पश्चाताप के बिना अपनी गहरे तले हुए खाद्य की खुशी को पूरा करें! इसके नाम के अनुरूप, यह एयर फ्रायर खाद्य को कम से कम तेल के साथ तैयार करता है। स्मार्ट रैपिड एयर टेक्नोलॉजी स्वचालित रूप से तापमान को समायोजित करती है ताकि बाहर से कुरकुरा और अंदर से नरम खाद्य बने, सभी यहाँ 90% कम वसा का उपयोग करते हुए। इसके अतिरिक्त, इस एयर फ्रायर के साथ आप अपनी पसंद के अनुसार खाद्य को बेक, ग्रिल, रोस्ट, और फिर से गरम कर सकते हैं! आकर्षक डिज़ाइन, 8 पूर्व निर्धारित कार्यक्रमों वाला टच पैनल और एयरोडायनामिक रूप से डिज़ाइन किया गया गैर-स्टिक फ्रायर बास्केट के साथ, नॉयल लाइट एक नई तरह का पकाने का अनुभव गारंटीत करता है: जहां स्वाद स्वास्थ्य के समान है।

लॉग इन करें https://www.hafeleindia.com/en/info/service/contact-us/410/

निकटतम हाफेल शोरूम या डिज़ाइन सेंटर ढूंढने के लिए।

वेबसाइट: https://www.hafeleindia.com/en

कस्टमर केयर टोल फ्री: 1800 266 6667

कस्टमर केयर व्हाट्सएप: +91 97691 11122

ग्राहक सेवा ईमेल आईडी: customercare@hafeleindia.com

हाफले ग्लोबल नेटवर्क  की पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कम्पनी के रूप में स्थापित, हाफले इण्डिया वर्ष  2003 से भारत में काम कर रहा है। आर्किटेक्चरल हार्डवेयर, फर्नीचर और किचन फिटिंग और सहायक उपकरण के क्षेत्र में यह एक प्राधिकरण, कम्पनी जिसकी सिनगेटेड उत्पाद श्रेणियों में एक मजबूत उपस्थिति है भारत और दक्षिण एशिया में आंतरिक समाधानों के लिए एक पूर्ण समाधान प्रदाता के रूप में स्थापित है। हाफले इण्डिया की देश भर में फैले अपने कार्यालयों और डिजाइन शोरूम के माध्यम से एक मजबूत राष्ट्रव्यापी उपस्थिति है। शोरूम सभी घर के इंटीरियर और सुधार की जरूरतों के लिए एक-स्टॉप-शॉप के रूप में कार्य करते हैं । विशेषज्ञों की एक टीम के माध्यम से रसोई और अलमारी डिजाइनिंग सेवाओं को गहन तकनीकी सलाह प्रदान करना है।

नई चमकः 11 माह में 10582 करोड़ के लैबग्रान हीरो का निर्यात


सूरत
नेचुरल हीरो का विकल्प बना लेब्रग्रॉन डायमंड अब धीरे-धीरे विदेश में अपनी पैंठ जमा रहा है।वर्तमान वित्तीय वर्ष 2023-24 में 11 महीने मे 10582 करोड रुपए से अधिक के लैबग्रान डायमंड का निर्यात विदेश में हो चुका है।आने वाले दिनों में भी लैबग्रान डायमंड का निर्यात बहुत तेजी से बढ़ेगा ऐसी उम्मीद हीरा उद्यमी बता रहे हैं।
हीरा उद्योग के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार सूरत में नेचुरल हीरो के साथ लैबग्रान डायमंड का काम बहुत तेजी से आगे बढ़ रहा है।लगभग 1000 से अधिक डायमंड यूनिट में लैबग्रान डायमंड का काम होता है।सूरत के हीरा उद्यमियों के पास 10000 डायमंड रिएक्टर है।जिनमें की लैबग्रान डायमंड बनाए जाते हैं।कोरोना के बाद से लेब्रग्रॉन डायमंड की डिमांड डिमांड लगातार बढ़ती जा रही है।अमेरिका यूरोप सहित अन्य देशों में लैबग्रान डायमंड की ज्वेलरी लोग पसंद कर रहे हैं।यह डायमंड देखने में बिल्कुल नेचुरल डायमंड जैसा लेकिन कीमत आधे से भी कम होने के कारण लोग नेचुरल डायमंड की जगह लैबग्रान डायमंड को भी पसंद कर रहे हैं।मध्यमवर्गीय परिवार जो कि अब तक नेचुरल डायमंड नहीं खरीद सकते थे उन्हें विकल्प के तौर पर लेबनान डायमंड मिलने के कारण ज्वेलरी आदि की खरीदी कर रहे है।नेचुरल हीरो की बात करें तो रूस और यूक्रेन का युद्ध के बाद से नेचुरल हीरो जमीनों के लिए संघर्ष जनक स्थिति बनी हुई है। वही लैबग्रान डायमंड का निर्यात तथा बढ़ रहा है। 2023 मे फरवरी महीने में 19582 करोड रुपए के नेचुरल हीरो का निर्यात हुआ।इसके मुकाबले फरवरी 2024 में 14162 करोड रुपए के नेचुरल डायमंड का निर्यात हुआ अर्थात की वर्तमान वर्ष में फरवरी मे नेचुरल हीरो की डिमांड में 28 प्रतिशत की कमी आई है।वहीं लेब्रग्रॉन डायमंड की बात करें तो वर्तमान वित्तीय वर्ष में 11537 करोड रुपए के लैबग्रॉन डायमंड का निर्यात हुआ।जो कि बीते वर्ष की अपेक्षा 3.29 प्रतिशत अधिक हैं।
हीराउद्योग के सूत्रों का कहना है कि सूरत में 2 लाख से अधिक लोग लैबग्रॉन डायमंड के कारोबार से जुड़े हैं।मंदी के समय में भी लैबग्रान डायमंड ने ही कई हीरा श्रमिकों को रोजगार देकर बेरोजगार होने से बचाया था।आने वाले दिनों में भी इलेक्ट्रॉन डायमंड का भविष्य उज्जवल है।
— पाँच माह मे लैबग्रॉन हीरो का निर्यात
महीना ————-——-निर्यात
अप्रेल-23—-838 करोड
मई-23—————-1147 करोड
जून-23———-901 करोड
जुलाई—23——-866करोड
अगस्त—23 ——-974 करोड
सितंबर—23———1102करोड
अक्टूबर—23——-1135 करोड
नवंबर—23———861 करोड
दिसंबर—23———695 करोड
जनवरी_24____946 करोड
फरवरी—24——1153 करोड

प्रकृति की क्षमता को उजागर करना: भारतीय जड़ीबूटी ने दुनिया की सबसे तेज हींग (हिंग प्रीमियम) पेश की

दिल्ली, भारत , March 18: प्रीमियम गुणवत्ता वाली जड़ी-बूटियाँ और मसाले पेश करने में अग्रणी IndianJadiBooti ने गर्व से अपनी नवीनतम पेशकश का अनावरण किया है: हींग (हिंग प्रीमियम) – हींग – बदबूदार गोंद – फेरुला फोटिडा। अपनी असाधारण ताकत और शुद्धता के लिए प्रसिद्ध, यह उत्पाद दुनिया भर में पाक अनुभवों और पारंपरिक औषधीय प्रथाओं में क्रांति लाने के लिए तैयार है।

भारतीय जड़ीबूटी हींग की ताकत (हिंग प्रीमियम)

बेजोड़ क्षमता: इंडियनजड़ीबूटी की हींग (हिंग प्रीमियम) सबसे अलग है क्योंकि यह बाजार में उपलब्ध अन्य ब्रांडों की तुलना में 20 गुना अधिक मजबूत है। यह अद्वितीय शक्ति यह सुनिश्चित करती है कि थोड़ी सी मात्रा भी मजबूत स्वाद और चिकित्सीय लाभ प्रदान करती है।

100% शुद्धता की गारंटी: IndianJadiBooti के साथ, शुद्धता पर कोई समझौता नहीं किया जा सकता। हमारा हींग (हिंग प्रीमियम) पौधे के प्रकंदों और जड़ों से सावधानीपूर्वक निकाले गए ओलियो गम राल से प्राप्त होता है, जो यह सुनिश्चित करता है कि प्रत्येक दाना मैदा या अरबी गोंद जैसी अशुद्धियों से मुक्त हो।

बहुमुखी अनुप्रयोग: चाहे आपके पसंदीदा व्यंजन का स्वाद बढ़ाना हो या उसके औषधीय गुणों का उपयोग करना हो, IndianJadiBooti Asafoetida (हिंग प्रीमियम) आपके लिए उपयुक्त समाधान है। पाचन में सहायता से लेकर श्वसन संबंधी बीमारियों को कम करने तक, इसके व्यापक लाभ इसे रसोई और दवा अलमारियों में प्रमुख बनाते हैं।

आधुनिक सुविधा के साथ परंपरा को अपनाना

IndianJadiBooti पारंपरिक ज्ञान और आधुनिक सुविधा के बीच की खाई को पाटता है, यह पेशकश:

लचीला ऑर्डरिंग: किसी न्यूनतम कार्ट मूल्य की आवश्यकता नहीं है, जिससे ग्राहक कम से कम 10 ग्राम का ऑर्डर कर सकते हैं। साथ ही, कैश-ऑन-डिलीवरी विकल्प उपलब्ध होने से, हमारी प्रीमियम हींग (हिंग प्रीमियम) खरीदना परेशानी मुक्त है।

स्विफ्ट डिस्पैच और विश्वव्यापी शिपिंग: 

प्रतिदिन 500 से अधिक उत्पाद भेजे जाने के साथ, निश्चिंत रहें कि आपका ऑर्डर सक्षम हाथों में है। घरेलू ऑर्डर 2-3 कार्य दिवसों के भीतर भेज दिए जाते हैं, जबकि हमारा विश्वव्यापी शिपिंग विकल्प यह सुनिश्चित करता है कि दुनिया भर के ग्राहक क्षमता का अनुभव कर सकें।

हींग क्रांति में शामिल हों

हींग, जिसे हींग, हींग या स्टिंकिंग गम के नाम से भी जाना जाता है, अपनी पाक और औषधीय क्षमता के लिए सदियों से पूजनीय रही है। IndianJadiBooti के हींग (हिंग प्रीमियम) के साथ, आप अपने व्यंजनों और स्वास्थ्य दिनचर्या को नई ऊंचाइयों तक पहुंचा सकते हैं।

IndianJadiBooti के बारे में

IndianJadiBooti दुनिया भर में ग्राहकों के लिए बेहतरीन गुणवत्ता वाली जड़ी-बूटियों और मसालों की सोर्सिंग और डिलीवरी के लिए प्रतिबद्ध है। शुद्धता, सामर्थ्य और ग्राहक संतुष्टि पर ध्यान देने के साथ, हम पाक और समग्र कल्याण के लिए प्रकृति की शक्ति का उपयोग करने में आपका विश्वसनीय भागीदार बनने का प्रयास करते हैं।

पेइड एफ़एसआई के तौर पर मनपा की आय पाँच साल में हुई दो गुना


-2019-20 मे 426 करोड के मुक़ाबले वर्तमान वित्तीय वर्ष मे 966 करोड की आय

सूरत
सूरत के रियल एस्टेट सेक्टर में तेजी का लाभ सूरत महानगरपालिका को भी हुआ है। बीते 5 साल में सूरत महानगर पालिका ने पेइड एफ़एसआई के तौर पर 2611 करोड रुपए से अधिक की कमाई की है। वर्तमान वित्तीय वर्ष में ही पालिका को अभी तक 966 करोड रुपए की आए पेइड एफ़एसआई के तौर पर हुई है।वर्तमान वित्तीय वर्ष समाप्त होने तक मनपा को 1000 करोड रुपए तक की आय होने की उम्मीद है।


मनपा के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार औद्योगिक शहर सूरत में लगातार तेजी से बढ़ रही जनसंख्या के चलते नए घर,सोसाइटी और नए फ़्लैट के पर प्रोजेक्ट भी धड़ल्ले से आ रहे हैं।सूरत के चारों ओर तेजी से विकास कार्य हो रहा है। सचिन, जहांगीरपुरा, जहांगीराबाद, मोटा वराछा, रांदेर, वेसू, पिपलोद डिंडोली,गोडादरा सहित तमाम क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर कमर्शियल और रेजिडेंशियल प्रोजेक्ट बन रहे हैं। लोगों की ओर से भी नए प्रोजेक्ट में अच्छी इंक्वारी की जा रही है।जिसके चलते बिल्डर भी प्रोजेक्ट शुरू करने में नहीं हिचक रहे।इसका सीधा फायदा आय के लिए अलग-अलग स्रोत ढूंढ रही मनपा को हुआ है।पेइड एफ़एसआई के तौर पर बिल्डर ने बीते 5 साल में लगभग 2600 करोड रुपए तक मनपा को दिए हैं। मनपा के नियम के अनुसार बिल्डर को निर्माण कार्य के लिए 1.8की एफ़एसआई दी जाती है। यदि बिल्डर अधिक निर्माण कार्य करना चाहते हैं तो मनपा उन्हें नियम के अनुसार कुछ इजाजत देती है।लेकिन इसके लिए मनपा को पेइड एफ़एसआई लेती है। यह क़ीमत कीमत जंत्री की कीमत की 30% के अनुसार मानी जाती है।

  • ⁠- तेज़ी से बढ़ी पेइड एफ़एसआई की आय
    वित्तीय वर्ष 2019-20 में 326 करोड़ 2020-21 में 132 करोड़, 2021-22 में 513 करोड़ और 2022-23 में 625 तथा वर्तमान वित्तीय वर्ष में अब तक 966 करोड रुपए की आई हुई है।
    उल्लेखनीय है कि सूरत महानगरपालिका निर्माण कार्य के लिए ऑफलाइन और ऑनलाइन दो तरह से मंजूर करती है मनपा को ज्यादातर आय ऑफ़लाइन मंजूरी से मिलती है। कोरोना के बाद से रियल एस्टेट सेक्टर में अच्छा माहौल है कोरोना के दिनों में कई बिल्डर के प्रोजेक्ट बंद हो गए थे जो कि अभी तक दिक्कत का सामना कर रहे हैं लेकिन आप ज्यादातर बिल्डर के लिए अच्छे दिन हैं।

ट्रिपोजी इंडिया टूर और ट्रैवल क्षेत्र में ग्राहकों को बेस्ट सर्विस देने के लिए प्रतिबद्ध

ग्राहकों को उनके बजट के अनुकूल सुविधासंपन्न यात्रा उपलब्ध कराना कंपनी का लक्ष्य: श्री रौशन कुमार

दुनिया के टूर एंड ट्रैवल क्षेत्र में ट्रिपोजी इंडिया एक उभरता हुआ नाम है। बीते 6 साल के दौरान ग्राहकों को बेहतरीन सर्विस उपलब्ध करवाते हुए कंपनी ने इस क्षेत्र में अपनी एक अलग पहचान बनाई है। खासकर, कंपनी द्वारा तीर्थ यात्रियों के बजट के अनुकूल चारधाम यात्रा पैकेज उपलब्ध करवाया गया है, जो की इंडस्ट्रीज में सबसे बेस्ट है।

ट्रिपोजी इंडिया प्राइवेट लिमिटेड की स्थापना 2018 में हुई थी, तब से यह कंपनी दुनियाभर में टूर और ट्रैवल सेवाएं प्रदान कर रही है।

कंपनी के निदेशक श्री रौशन कुमार ने कहा कि, उनकी ब्रांड की यूएसपी चारधाम यात्रा है। ट्रिपोजी इंडिया की पेशकशों का सबसे आकर्षक पहलू उनकी प्रतिस्पर्धी कीमत है। मात्र ₹18,999 की कीमत वाले अपने चारधाम यात्रा पैकेज के साथ, कंपनी यह सुनिश्चित करती है कि, तीर्थयात्री अपना बजट बढ़ाए बिना इस पवित्र यात्रा पर निकल सकें।

अपनी पहुंच और पेशकश का विस्तार करने के लिए एक रणनीतिक कदम में, ट्रिपोजी इंडिया ने अन्य ट्रैवल कंपनियों के साथ मजबूत बी2बी साझेदारी बनाई है। यह सहयोगात्मक दृष्टिकोण न केवल उनकी बाजार उपस्थिति को बढ़ाता है बल्कि, उन्हें अपने ग्राहकों को व्यापक श्रेणी की सेवाएं प्रदान करने की भी अनुमति देता है।

ट्रिपोजी इंडिया ग्राहकों को फ्लाइट बुकिंग, होटल बुकिंग एवं आकर्षक हॉलिडे पैकेज की सेवा उपलब्ध करवाती है। कंपनी की निर्बाध ऑनलाइन टिकट बुकिंग प्रक्रिया सहज और आसान है, जो हर कदम पर परेशानी मुक्त उड़ान बुकिंग सुनिश्चित करती है। कंपनी के पास दुनिया के हर प्रमुख शहर में व्यापक बजट रेंज के साथ हर स्टार श्रेणी में सर्वोत्तम प्रॉपर्टी का डेटाबेस है।

ट्रिपोजी इंडिया के जरिए आप वेकेशन और वीकेंड की छुट्टियों में परिवार एवं दोस्तों के साथ मनचाहे पर्यटन स्थलों पर ट्रिप का प्लान कर सकते हैं। कंपनी की वेबसाइट पर जाकर अपने लिए बेस्ट ट्रेवेल डेस्टिनेशन और टूर पैकेज के विकल्प को चुन सकते हैं। कंपनी की यूजर्स फ्रेंडली वेबसाइट उत्साही यात्रियों के लिए बस एक बटन (+91 120- 4543990/9643887788)

केपी ग्रीन इंजीनियरिंग लिमिटेड का SME प्लेटफॉर्म पर सबसे बड़ा 189.50 करोड़ रुपये का IPO, पहला रोड-शो सूरत में आयोजित हुआ

केपी ग्रीन इंजीनियरिंग लिमिटेड का SME आरंभिक सार्वजनिक प्रस्ताव(IPO) शुक्रवार, 15 मार्च, 2024 को शुरू होगा, प्रति इक्विटी शेयर 137/- से 144/- की प्राइस बैंड निर्धारित की

केपी ग्रुप, 22 मार्च को सूरत में ही बेल सेरेमनी आयोजित करके नई प्रथा शुरु करोगा

सूरत : सूरत-गुजरात स्थित केपी ग्रुप की 25 साल पुरानी फ्लेगशीप( मुख्य) कंपनी,  केपी ग्रीन इंजीनियरिंग लिमिटेड का SME प्लेटफॉर्म पर सबसे बड़ा 189.50 करोड़ रुपये का आईपीओ आ रहा है। इसका पहला रोड शो(इन्वेस्टर, ब्रोकर मीट) सूरत के ली-मेरिडियन होटल में आयोजित किया गया था। विभन्न कंपनियों का पहला रोड शो अब तक, दिल्ली या मुंबई में आयोजित हुआ है लेकिन इस कंपनी का मुख्यालय सूरत में होने के कारण एक नई प्रथा पर अमल किया जा रहा है। कंपनी दि. 22 मार्च को बेल सेरेमनी (समारोह) का आयोजन भी सूरत में ही करने वाली है।

इस संदर्भ में जानकारी देते हुए केपी ग्रुप के अध्यक्ष-प्रबंध निदेशक डाँ. फारूक जी. पटेल ने कहा कि, आईपीओ के लिए प्रत्येक ₹5/- फैस वैल्यू के साथ प्रति इक्विटी शेयर ₹137/- से ₹144/- का प्राइस बैंड तय किया गया है। यह आईपीओ सबस्क्रिप्शन के लिए शुक्रवार, 15 मार्च, 2024 को खुलेगा और मंगलवार, 19 मार्च, 2024 को बंद होगा। इससे पहले हमारी दो कंपनियां शेयर बाजार में आ चुकी हैं। जिसमें केपी एनर्जी लि. का लिस्टिंग वर्ष 2016 में हुआ था। केपी एनर्जी का मार्केट कैप आज 2638 करोड़ रुपये है। एक अन्य कंपनी KPI  ग्रीन एनर्जी लिमिटेड का लिस्टंग वर्ष 2019 में हुआ था। इस कंपनी का मार्केट कैप 10404 करोड़ रुपये है। हमने सोचा था कि, डॉलर जितनी हमारी कीमत होगी और KPI  ग्रीन का एक रुपया ठीक 84 रुपये हो गया। यही हमारा प्रदर्शन रहा है। केपी ग्रुप का 150 अरब रु. से अधिक का बिज़नेस एम्पायर(कारोबार साम्राज्य) है। दोनों कंपनियां नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र, सौर-पवन ऊर्जा और हाइब्रिड में अच्छा प्रदर्शन कर रही हैं और जिसका आईपीओ ला रहे हैं, वो केपी ग्रीन इंजीनियरिंग, बीते 25 वर्षों से काम कर रही है। इसलिए मैं निश्चित रूप से कहूंगा कि, यह अच्छा प्रदर्शन ही करेगी। हम प्रधानमंत्री मोदी के नवीकरणीय क्षेत्र में 2030 तक 500 गीगावॉट के लक्ष्य तक पहुंचने और अन्य देशों पर देश की निर्भरता को कम करने के लिए आक्रामक रूप से आगे बढ़ रहे हैं।

नई फ़ैक्टरी का निर्माण कार्य जारी :

केपी ग्रीन इंजीनियरिंग लिमिटेड के पूर्णकालिक निदेशक मोइनुल कड़वा ने कहा कि, कंपनी भरूच जिले के मातर गांव में एक बड़ी फैक्ट्री का निर्माण कर रही है। इसमें उत्पादन सुविधा की कुल परियोजना लागत रु. 174.04 करोड़ रुपये है। ऑफर के माध्यम से जुटाई जाने वाली राशि में से हमने 156.14 करोड़ रुपये तक की राशि का उपयोग करने का प्रस्ताव रखा है। हाल में डभासा में 2 लाख वर्ग फुट में फैली फैक्ट्री में प्रति वर्ष 53,000 मीट्रिक टन की क्षमता है, यह नई इकाई मातर में वार्षिक 294,000 मीट्रिक टन की क्षमता के साथ उत्पादन सुविधा का विस्तार करने की योजना है। 31 दिसंबर, 2023 तक कंपनी के पास अंदाजित 233.91 करोड़ रुपये की कुल ऑर्डर बुक वैल्यू के साथ 69 प्रोजेक्टस(परियोजनाएं) हैं।

इन हाउस फैसिलिटी :

वर्ष 2001 में स्थापित, केपी ग्रीन इंजीनियरिंग कंपनी हॉट-डिप गैल्वनाइज्ड स्टील उत्पादों के निर्माण में अग्रणी है। इसकी व्यापक उत्पाद श्रृंखला में लेटीस टॉवर स्ट्रक्चर्स, सबस्टेशन स्ट्रक्चर्स, सौर मॉड्यूल माउंटिंग स्ट्रक्चर्स, केबल ट्रे, अर्थिंग स्ट्रिप्स, बीम क्रैश बैरियर और अन्य इंफ्रास्ट्रक्चर सोलुशन शामिल हैं। इसके अतिरिक्त, यह ऑप्टिकल फाइबर केबल, गैल्वनाइजिंग जॉब वर्क और सौर इन्स्टोलेशन सेवाओं के लिए फॉल्ट रेक्टिफिकेशन सर्विसेज (FRT) प्रदान करता है। यह नवीकरणीय ऊर्जा क्षेत्र का समर्थन करने वाले फैब्रिकेशन सौर एमएमएस स्ट्रक्चर्स, विंड लेटीस टावरों, ट्रांसमिशन टावरों, पोल का भी निर्माण करती है।

कंपनी का वित्तीय प्रबंधन :

वित्तिय वर्ष 2023 में केपी ग्रीन इंजीनियरिंग लिमिटेड ने 12.40 करोड़ रुपए का लाभ दर्ज किया था, जो पीछले साल के 4.54 करोड़ से बढ़कर लाभ में 2.73 गुना बढ़त दर्शाता है। FY23 के दौरान आय, पीछले साल के 77.70 करोड़ रु. की तुलना में उल्लेखनीय रूप से बढ़कर 114.21 करोड़ हुई है, जो 47% की वृद्धि दर्शाती है। इसका मुख्य कारण उत्पादों और सेवाओं की बिक्री से आय में बढ़ोतरी है। कंपनी ने सितंबर-2023 तक केवल 6 महीनों में वित्तिय वर्ष 2022-23 के लगभग समान आय और PAT  हासिल कर लिया है। सितंबर में समाप्त छह महीनों में परिचालन संचालन से आय रु. 103.93 करोड़ थी और कर के बाद का लाभ रु. 11.27 करोड़ था।