કાપડ માર્કેટના ટેમ્પો ચાલક કામદારોના પ્રશ્નોના નિરાકરણ માટે બેઠક યોજાઈ

રવિવારે રીંગરોડ કમેલા દરવાજા ખાતે સુરત શહેર ટેમ્પો ઓનર ડ્રાઈવર વેલ્ફેર એસોસિએશન, સુરત જિલ્લા ટેક્સટાઈલ માર્કેટિંગ ટ્રાન્સપોર્ટ લેબર યુનિયન અને મીલ ટેમ્પો ડિલિવરી કોન્ટ્રાક્ટર એસોસિએશન સુરતના સંયુક્ત નેજા હેઠળ એક બેઠકનું આયોજન કરવામાં આવ્યું હતું. બેઠકમાં માર્કેટમાં પાર્કિંગની સમસ્યા સહિત અન્ય સમસ્યાઓ અંગે વિસ્તૃત ચર્ચા કરવામાં આવી હતી. મિટિંગમાં હાજર ટેમ્પો એસોસિએશનના પ્રમુખ શ્રવણસિંહ ઠાકુરે જણાવ્યું હતું કે, માર્કેટમાં ગ્રે કપડાની ડિલિવરી કરતા કામદારોએ ગ્રે કાપડના સેમ્પલ બતાવા માટે પહેલા દુકાનમાં જવું પડે છે અને બાદમાં પાર્કિંગમાં પાર્ક રહેતા મીલના વાહનોને તથા વેપારીના ગોડાઉનમાં ડિલિવરી આપવાની હોય છે. આવી સ્થિતિમાં ટેમ્પો ચાલકને ગ્રેની ડિલિવરી માટે ડબલ ધક્કો ખાવો પડી રહ્યો છે. યુનિયનના પ્રમુખ ઉમાશંકર મિશ્રાએ જણાવ્યું હતું કે માર્કેટમાં પ્રથમ એક કલાક મફત પાર્કિંગ આપવાના સુપ્રીમ કોર્ટના આદેશનું ખુલ્લેઆમ ઉલ્લંઘન થઈ રહ્યો છે અને માર્કેટ મેનેજમેન્ટ દ્વારા ટેમ્પો ચાલકો પાસેથી મનસ્વી રીતે પાર્કિંગ ફી વસૂલ કરવામાં આવી રહી છે. મીલ ટેમ્પો ડિલિવર કોન્ટ્રાક્ટર એસોસિએશનના પ્રમુખ રાજેન્દ્ર ઉપાધ્યાયે જણાવ્યું હતું કે માર્કેટ વિસ્તારમાં આવેલ મ્યુનિસિપલ કોર્પોરેશનનાં પે એન્ડ પાર્કનાં કોન્ટ્રાક્ટરો મનસ્વી રીતે પાર્કિંગ ફી વસૂલી રહ્યા છે અને એક જ પાર્કિંગમાં અલગ-અલગ લોકોને ગેરકાયદેસર પેટા કોન્ટ્રાક્ટ આપવામાં આવ્યો છે જેના કારણે ટેમ્પો ચાલકો પાસેથી એક જ પાર્કિંગમાં અલગ- અલગ પાર્કિંગ ફી વસૂલવામાં આવી છે. આ સાથે પે એન્ડ પાર્કનાં કોન્ટ્રાક્ટર દ્વારા તેમને ફાળવવામાં આવેલ પાર્કિંગ એરિયાની બહાર રોડ પર વાહનો પાર્ક કરાવીને ગેરકાયદેસર રીતે પાર્કિંગ ફી વસૂલવામાં આવી રહી છે જેના કારણે ટેમ્પો ચાલકોને ટ્રાફિક જામનો સામનો કરવો પડી રહ્યો છે. આગામી સમયમાં ઉપરોક્ત તમામ સમસ્યાઓ અંગે આંદોલન કરવામાં આવશે. મીટીંગમાં ટેમ્પો ચાલક કામદારોને ડ્રાઈવીંગ કરતી વખતે ડ્રાઈવીંગ લાયસન્સ, પીયુસી, ઈન્સ્યોરન્સ સહિતના તમામ જરૂરી દસ્તાવેજો સાથે રાખવા આહવાન કરવામાં આવ્યું હતું. આ પ્રસંગે મોટી સંખ્યામાં કામદારો અને ટેમ્પો ચાલકો ઉપસ્થિત રહ્યા હતા.

500 Artisans under one roof – GJEPC organizes grand “Ratnakalakar Samriddhi Samrambh

The Gem and Jewelry Export Promotion Council (GJEPC) hosted the “Ratnakalakar Samriddhi Samarambh” seminar at Saurashtra Bhawan, Mini Bazaar, Varachha, aimed at providing valuable insights to diamond and Bengali artisans associated with the jewelry industry. The event was graced by the presence of Assistant Labor Commissioner Mr. S.S. Dubey as the special guest, with notable speakers including Mr. Jignesh Desai of NJ Finance, Mr. Sohail Savani of Savani Foundation, and Dr. Nimesh Ramoliya of Radha Hospital.

During the seminar, Mr. Vijay Mangukiya, Regional Chairman – Gujarat, GJEPC, expressed his condolences for artisans facing challenges and emphasized the importance of maintaining both “Health” and “Wealth” for a prosperous life. He introduced the “Parichay Card” and highlighted the associated free medical policy to support artisans.

Special guest Mr. S.S. Dubey, Assistant Labor Commissioner, informed the audience about various government schemes, ensuring artisans were aware of their privileges.

Mr. Jignesh Desai of NJ Group emphasized the significance of a systematic investment plan (SIP) and shared essential rules to follow before taking loans. Dr. Nimesh Ramoliya provided insights into mandatory medical reports and advised on health maintenance with tips on regular breaks during the day.

Addressing the gathering, Mr. Sohail Savani stressed the importance of schemes such as PF and ESIC, urging artisans to avail these services for their well-being.

The seminar garnered widespread support from associations including the Indian Diamond Institute, Surat Diamond Association, Surat Jewelry Manufacturers Association, Ratnakalakar Vikas Sangh, Diamond Worker Union Gujarat, and Bengali Manufacturers Welfare Association. Over 800 artisans benefited from the program.

પોલિએસ્ટર યાર્ન પર કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડરને વધુ લંબાવવા માટે ચેમ્બર ઓફ કોમર્સની રજૂઆત!

કેન્દ્રિય મંત્રી ડો. મનસુખ માંડવીયા, પિયુષ ગોયલ અને દર્શનાબેન જરદોશને લેખિતમાં રજૂઆત કરી સુરતમાં મોટાપાયે સ્થપાયેલી મોડર્ન વિવિંગ એન્ડ નીટિંગ ઇન્ડસ્ટ્રી પર પડનારી ધંધાકીય મુશ્કેલીને નાથવા અનુરોધ કરાયો

સુરતઃ ધી સધર્ન ગુજરાત ચેમ્બર ઓફ કોમર્સ એન્ડ ઇન્ડસ્ટ્રી દ્વારા મંગળવાર, તા. ૩ ઓકટોબર, ર૦ર૩ના રોજ ભારત સરકારના કેમિકલ્સ એન્ડ ફર્ટિલાઇઝર્સ તેમજ હેલ્થ એન્ડ ફેમિલી વેલ્ફેરના કેન્દ્રિય મંત્રી ડો. મનસુખ માંડવિયા તથા દેશના કોમર્સ એન્ડ ઇન્ડસ્ટ્રી, ટેક્ષ્ટાઇલ્સ, કન્ઝયુમર અફેર્સ અને ફૂડ એન્ડ પબ્લીક ડિસ્ટ્રીબ્યુશનના કેન્દ્રિય મંત્રી પિયુષ ગોયલ અને ભારતના કેન્દ્રિય ટેક્ષ્ટાઇલ્સ એન્ડ રેલ્વે રાજ્ય મંત્રી દર્શનાબેન જરદોશને લેખિતમાં પત્ર પાઠવીને પોલિએસ્ટર યાર્ન ઉપર તા. પ ઓકટોબર, ર૦ર૩થી અમલી થવા જઇ રહેલા કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડરની મુદત, યુઝર ઇન્ડસ્ટ્રી એટલે કે વિવિંગ અને નીટિંગ ઇન્ડસ્ટ્રીને નડતા પ્રશ્નોનો ઉકેલ નહીં આવે ત્યાં સુધી લંબાવવા માટે રજૂઆત કરવામાં આવી છે.

ચેમ્બર ઓફ કોમર્સના પ્રમુખ રમેશ વઘાસિયાએ જણાવ્યું હતું કે, સપ્ટેમ્બર ર૦ર૧માં પ્રથમ વખત પોલિએસ્ટર યાર્ન ઉપર કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડર, કેન્દ્ર સરકાર દ્વારા લાગુ કરવામાં આવ્યો હતો, જેની અમલવારી એપ્રિલ– ર૦રરથી થનાર હતી, પરંતુ ધી સધર્ન ગુજરાત ચેમ્બર ઓફ કોમર્સ એન્ડ ઇન્ડસ્ટ્રીએ, કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડર અંગે ઉદ્યોગકારોની માંગ મુજબ તે સમયથી જ સમયાંતરે રજૂઆતો કરી હતી. ચેમ્બરે, તેના સભ્યો તથા ઉદ્યોગને ધંધાકીય મુશ્કેલી નહીં પડે તે માટે ફેબ્રુઆરી– ર૦રરથી કેન્દ્ર સરકારને સતત રજૂઆતો કરી હતી.

ચેમ્બર ઓફ કોમર્સે, કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડર તથા તેને સંલગ્ન બીઆઇએસની જોગવાઇઓ, ઉત્પાદકો અને વપરાશકર્તાઓ એમ બંનેને સ્વીકાર્ય હોય તે માટે સતત છેલ્લા બે વર્ષથી પ્રયાસ જારી રાખ્યા છે. જેને કારણે સતત ચાર વખત એક્ષ્ટેન્શન મળ્યું હતું. એના માટે ચેમ્બર ઓફ કોમર્સ દ્વારા કેન્દ્રિય મંત્રી ડો. મનસુખ માંડવીયા અને પિયુષ ગોયલ તથા કેન્દ્રિય ટેક્ષ્ટાઇલ્સ એન્ડ રેલ્વે રાજ્ય મંત્રી દર્શનાબેન જરદોશ અને ગુજરાત ભાજપના પ્રદેશ અધ્યક્ષ સી.આર. પાટીલનો આભાર માન્યો હતો.

ઉદ્યોગના હિતને ધ્યાને લઇ કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડર તથા તેને સંલગ્ન બીઆઇએસની જોગવાઇઓ, ઉત્પાદકો અને વપરાશકર્તાઓ એમ બંનેને માન્ય થયા બાદ જ કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડરને અમલી બનાવવામાં આવે તે માટે ચેમ્બર ઓફ કોમર્સ સતત પ્રયત્નશીલ છે. જેના ભાગ રૂપે ચેમ્બર ખાતે વિવિંગ અને નીટિંગ ઉદ્યોગકારો સાથે વારંવાર મિટીંગો કરવામાં આવી રહી છે.

મોડર્ન વિવિંગ એન્ડ નીટિંગ ઇન્ડસ્ટ્રીમાં કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડરને કારણે ધંધાકીય મુશ્કેલી ઉભી ન થાય તે માટે બીઆઇએસના કવોલિટી ક્રાઇટેરીયામાં યાર્ન વપરાશકારો અને ઉત્પાદકોની માંગ મુજબ સ્પેસિફિકેશનમાં ફેરફાર કરવામાં આવે તેવી રજૂઆત ચેમ્બરે કરી છે. સાથે જ હાલ, ભારતમાં ઉપલબ્ધ નથી તેવા એફડીવાય કે પીઓવાય યાર્નની ઉપલબ્ધી ચાલુ રહે તે માટે ઉદ્યોગોના હિતમાં યોગ્ય નિર્ણય લેવા અનુરોધ કરાયો છે.

ચેમ્બર ઓફ કોમર્સ દ્વારા યાર્નના કોઇપણ સ્ટેક હોલ્ડરને મુશ્કેલી ન પડે અને ધંધા – ઉદ્યોગ ડિસ્ટર્બ ન થાય તેવી રીતનો ઉકેલ ઝડપથી લાવી યોગ્ય ઘટતું કરવા માટે કેન્દ્ર સરકારને વિનંતી કરવામાં આવી છે. ચેમ્બર ઓફ કોમર્સે, કેન્દ્ર સરકારને કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડરને વધુ સમય માટે લંબાવવા રજૂઆત કરી છે.

વધુમાં ચેમ્બર ઓફ કોમર્સ દ્વારા કેમિકલ્સ એન્ડ ફર્ટિલાઇઝર્સ તેમજ કોમર્સ એન્ડ ઇન્ડસ્ટ્રી અને ટેક્ષ્ટાઇલ્સના કેન્દ્રિય મંત્રીઓ તથા મંત્રાલયના સચિવો અને ઉચ્ચ અધિકારીઓની સાથે કવોલિટી કન્ટ્રોલ ઓર્ડરની અમલવારી લંબાવવા હેતુ મિટીંગ કરવા માટે સમય પણ માંગવામાં આવ્યો છે.

हर घर तिरंगा से 600 करोड़ रुपये का व्यापार होने की उम्मीद!


कैट ने पीएम मोदी से 15 अगस्त से चालू वर्ष को स्वराज वर्ष घोषित करने का आग्रह किया

प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी के हर घर तिरंगा अभियान को देश भर में बेहद उत्साहपूर्वक मनाने के लिए कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ( कैट) देश भर में व्यापक रूप से बड़े प्रयास कर रहा है और उम्मीद की जाती है की इस वर्ष इस अभियान के कारण देश भर में लगभग 35 करोड़ तिरंगे झंडे की बिक्री होगी जिससे लगभग 600 करोड़ रुपये का व्यापार होगा ।पिछले वर्ष यह बिक्री लगभग 500 करोड़ रुपये थी।कैट ने देश के सभी व्यापारियों से ज़ोरदार अपील की है की वो अपनी दुकानों एवं घरों पर 13 अगस्त से 15 अगस्त तक राष्ट्रीय ध्वज ज़रूर लगायें तथा अपने कर्मचारियों को भी तिरंगे झंडे वितरित करें जिससे वो अपने घरों पर लगा सकें। कैट ने कहा कि राष्ट्रभक्ति एवं स्व-रोजगार से जुड़े इस अभियान ने पूरे देश में लोगों के बीच देशभक्ति की एक अद्भुत भावना तथा कोआपरेटिव व्यापार की बड़ी संभावनाएं खोल दी हैं !

कैट के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री बी सी भरतिया एवं राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल नेतिरंगा के प्रति लोगों के समर्पण और उत्साह को देखते हुए प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी से इस वर्ष के 15 अगस्त से 15 अगस्त 2024 तक की अवधि को “स्वराज वर्ष” के रूप में घोषित करने की अपील की है वहीं यह भी आग्रह किया की अगले माह होने वाले जी 20 सम्मेलन के अवसर पर देश के लोगों से हर घर तिरंगा की अपील की जाए।

श्री भरतिया एवं श्री खंडेलवाल ने कहा कि आज से 15 अगस्त तक पूरे देश में कैट के झंडे तले देश के व्यापारी संगठन 4000 से अधिक तिरंगा कार्यक्रम आयोजित जिसमें तिरंगा रैलियां, तिरंगा मार्च,तिरंगा गौरव यात्रा एवं स्वराज मार्च जैसे कार्यक्रम होंगे।

श्री भरतिया और श्री खंडेलवाल ने कहा की हर घर तिरंगा से देश भर में 10 लाख से अधिक लोगों को रोजगार दिया, जिन्होंने अपने घर में या छोटे स्थानों पर स्थानीय दर्जी की सहायता से बड़े पैमाने पर तिरंगा झंडा बनाया। एसएमई विनिर्माण और व्यापार क्षेत्र ने सबसे अधिक संगठित तरीके से बड़ी संख्या में भारतीय ध्वज तैयार करने में दिन-रात काम किया। आम तौर पर बनाए गए ध्वज के विभिन्न आकारों में 6800×4200 मिमी, 3600 x 2400 मिमी, 1800×1200 मिमी, 1350×900 मिमी, 900×600 मिमी, 450×300 मिमी, 225×150 मिमी और 150×100 मिमी शामिल हैं।वर्ष 2022 से पहले पिछले वर्षों में स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर, भारतीय तिरंगे की वार्षिक बिक्री लगभग 150-200 करोड़ रुपये तक सीमित थी।जबकि हर घर तिरंगा आंदोलन ने बिक्री को कई गुना बढ़ाकर 600 करोड़ रुपये कर दिया है ।

श्री भरतिया एवं श्री खंडेलवाल ने प्रधानमंत्री श्री मोदी से इस वर्ष 15 अगस्त से आगामी 15 अगस्त तक को स्वराज वर्ष घोषित करने का आग्रह करते हुए कहा की “आत्मनिर्भर भारत” और “लोकल पर वोकल ” के दृष्टिकोण को और मजबूत किया जाने तथा देश के व्यापार और मध्यम उद्योग को उच्च गुणवत्ता वाली वस्तुओं और सेवाओं की बिक्री जो वैश्विक परिदृश्य पर भारत को एक विशिष्ट राष्ट्र के रूप में स्थापित करेगी, प्रोत्साहित करने का भी आग्रह किया ।

उन्होंने आगे कहा कि देश भर में तिरंगा अभियान के प्रति लोगों के उत्साह और देशभक्ति को देखते हुए सरकार को विभिन्न क्षेत्रों के संगठनों के साथ पीपीपी मॉडल में भारत की मूल कला एवं व्यापारिक दक्षताओं को जगाने के लिए अभियान चलाना चाहिए जिसका मूल उद्देश्य राष्ट्र सर्वोपरि हो तथा भारत में बनी हुई वस्तुओं के उपयोग करने का आग्रह हो ! देश के युवाओं को स्वतंत्रता प्राप्त करने में लोगों द्वारा किए गए बलिदानों को बताने और स्वराज वर्ष में एक साल की लंबी श्रृंखला देश की स्वतंत्रता के बारे में भावना और आत्मविश्वास को आत्मसात करना जरूरी है ! दोनों व्यापारी नेताओं ने कहा कि इसमें कोई संदेह नहीं है कि पिछले 76 वर्षों में पूरी दुनिया में ऐसा पहली बार हुआ है कि कोई देश अपने राष्ट्रीय ध्वज के नीचे एक साथ खड़ा है। इससे पूरी दुनिया में भारत का बड़ा मजबूत संदेश गया है। वर्तमान समय में जब कुछ लोग देश को अस्थिर करना चाहते हैं, स्वराज वर्ष देश के ताने-बाने को देशभक्ति के धागे से बांधने में बहुत अच्छा काम करेगा। .

कैट और मेटा भारत में 10 मिलियन व्यापारियों को डिजिटल बनाएंगे!

कैट और मेटा ने व्हाट्सएप बिजनेस ऐप के माध्यम से 10 मिलियन स्थानीय व्यवसायों को डिजिटल बनाने के लिए ‘व्हाट्सएप से व्यापार’ साझेदारी का एलान किया

मुंबई | 24 जुलाई, 2023: देश भर में छोटे व्यवसायों को सशक्त बनाने के प्रयास में, कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) और वैश्विक कंपनी मेटा के स्वामित्व वाले व्हाट्सएप द्वारा अपनी पार्टनरशिप में एक बड़ा आयाम देते हुए देश में 10 मिलियन स्थानीय व्यापारियों को डिजिटल रूप से प्रशिक्षित और कुशल बनाने का आज दोनों ने संयुक्त रूप से ऐलान किया ।साझेदारी का लक्ष्य सभी 29 भारतीय राज्यों में 11 भारतीय भाषाओं में हाइपर-स्थानीय डिजिटल प्रशिक्षण के साथ व्यवसायों के लिए विकास के अवसरों को उजागर करने के लिए डिजिटलीकरण प्रयासों को अंतिम व्यापारी तक पहुँचाना है ।

पूरे भारत में 40,000 व्यापारी संगठनों से जुड़े लगभग 8 करोड़ व्यापारियों के अपने व्यापक नेटवर्क का लाभ उठाते हुए, कैट व्यवसायों को उनके स्टोरफ्रंट को डिजिटल बनाने और उनके ‘डिजिटल’ निर्माण में मदद करने के लिए आवश्यक ज्ञान से लैस करने के लिए व्यापक डिजिटल और कौशल प्रशिक्षण प्रदान करने के लिए डिज़ाइन की गई कार्यशालाओं की एक श्रृंखला देश भर में आयोजित करेगा जिसमें वहाट्सएप के बिजनेस ऐप पर ‘दुकान’, जिसमें उन्हें कैटलॉग, क्विक रिप्लाई, क्लिक टू व्हाट्सएप जैसी सुविधाएँ जो ऐप पर उपलब्ध हैं, के बारे में शिक्षित करना शामिल है, जो छोटे व्यवसायों को अपने ग्राहकों के साथ कुशलतापूर्वक जुड़ना आसान बनाते हैं

इन वर्षों में, व्हाट्सएप बिजनेस ऐप ने पूरे भारत में सूक्ष्म, लघु व्यवसायों और एकल उद्यमियों को अपने व्यवसाय के लिए एक पेशेवर डिजिटल पहचान बनाने के साथ-साथ नए बाजारों की खोज करने और अपने ग्राहकों की सेवा करने के लिए एक लोकतांत्रिक प्रवेश द्वार प्रदान किया है। यह साझेदारी भारत के सामाजिक-आर्थिक विकास के लिए प्रौद्योगिकी को अपनाकर और नए युग की उपभोक्ता आवश्यकताओं को पूरा करने में सक्षम बनाकर संपन्न व्यापार समुदाय को सशक्त बनाने की दिशा में एक और कदम है।

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री श्री प्रवीन खंडेलवाल ने कहा, ”तेजी से विकसित हो रही व्यावसायिक जरूरतों के साथ, प्रौद्योगिकी, विकास के लिए एक महत्वपूर्ण प्रवर्तक हो सकती है। हमारा मानना ​​है कि खुद को बेहतर बनाने के लिए सही उपकरणों के साथ, भारत भर के व्यापारी अपने व्यवसाय को बढ़ाने के नए तरीके सीखकर लाभान्वित हो सकते हैं। व्हाट्सएप बिजनेस ऐप जो पहुंच और सफलता प्रदान कर सकता है वह अद्वितीय है। हम ‘व्हाट्सएप से व्यापार’ कार्यक्रम पर मेटा के साथ अपनी साझेदारी का विस्तार करने के लिए उत्साहित हैं, जिसे भारत के 29 राज्यों में 10 मिलियन व्यापारियों को कौशल प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह साझेदारी व्यापारियों और व्यवसायों को अधिक व्यापक ग्राहक आधार बनाने, अपने व्यवसाय को बढ़ाने और भारत की बढ़ती डिजिटल अर्थव्यवस्था में और भी योगदान देने में मदद करेगी।

मेटा के ग्लोबल अफेयर्स के अध्यक्ष निक क्लेग ने कहा, “यह भारत में उद्यमिता का युग है। भारत एक डिजिटल क्रांति का अनुभव कर रहा है, और जिस तरह से भारतीय उद्यमियों और छोटे व्यवसायों ने व्हाट्सएप जैसी तकनीकों को अपनाया है, वह इसका एक बड़ा हिस्सा है। हम उद्यमियों और छोटे व्यवसायों को आगे के अवसरों का अधिकतम लाभ उठाने में मदद करना चाहते हैं और भारत के टेक के केंद्र में बने रहना चाहते हैं।’

यह साझेदारी 25,000 व्यापारियों को मेटा स्मॉल बिजनेस अकादमी तक पहुंच प्रदान करके व्यापारिक समुदाय के लिए कैट के डिजिटल कौशल चार्टर को भी गति देगी। मेटा स्मॉल बिजनेस अकादमी द्वारा प्रमाणन विशेष रूप से नए उद्यमियों और विपणक को मेटा ऐप्स पर बढ़ने के लिए महत्वपूर्ण डिजिटल मार्केटिंग कौशल हासिल करने में मदद करेगा। कार्यक्रम को पूरे भारत में एमएसएमई तक पहुंचने में सक्षम बनाने के लिए, पाठ्यक्रम मॉड्यूल और परीक्षा सात भाषाओं – अंग्रेजी, हिंदी, मराठी, बंगाली, कन्नड़, तमिल और तेलुगु में उपलब्ध हैं।

वेल्थोनिक कैपिटल: राजस्थान में वित्तीय सेवाओं में अग्रणी कंपनी

नई दिल्ली (भारत), 17 जुलाई: वेल्थोनिक कैपिटल, तेजी से बढ़ती राजस्थान स्थित वित्तीय सेवा प्रदाता कंपनी, संस्थापक और सीईओ, पीयूष शंगारी की ब्रोकिंग बदौलत वित्तीय सेवाओं और स्टॉक ब्रोकिंग के क्षेत्र में अग्रणी बन गई है। श्री पीयूष शंगारी की यात्रा 2012 में शुरू हुई जब उन्होंने स्टॉक ब्रोकिंग उद्योग में एक वित्तीय सेवाकार के रूप में अपना करियर शुरू किया। तब से, उन्होंने अपने ग्राहकों को उत्कृष्ट सेवाएं प्रदान करके और भारतीय आबादी के बीच शेयर बाजार के बारे में जागरूकता फैलाकर अपना व्यवसाय बनाया है। साथ में निदेशक एवं सी.आर.ओ. प्रियंका गुगलानी शंगारी। वेल्थोनिक कैपिटल के, वे कंपनी को वित्तीय उद्योग के शीर्ष पर ले जाते हैं।

वेल्थोनिक कैपिटल वित्तीय सेवाओं की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदान करता है, जिसमें इक्विटी ट्रेडिंग, मुद्रा डेरिवेटिव ट्रेडिंग, कमोडिटी ट्रेडिंग, डेरिवेटिव ट्रेडिंग, म्यूचुअल फंड, बीमा और अन्य वित्तीय उपकरण शामिल हैं। श्री शंगारी लोगों को शेयर बाजार के बारे में शिक्षित करने और उन्हें बुद्धिमानी से निवेश करने के लिए प्रोत्साहित करने के महत्व पर जोर देते हैं। वह और उनकी टीम लोगों को बाज़ार को समझने और निवेश संबंधी निर्णय लेने में मदद करने के लिए बैठकें और कार्यक्रम आयोजित करते हैं।

वेल्थोनिक कैपिटल में, टीम पहले निवेशक के वित्तीय लक्ष्य निर्धारित करके काम करती है और फिर उन लक्ष्यों को पूरा करने के लिए सर्वोत्तम निवेश विकल्पों पर निवेशक को परामर्श देती है। वे प्रत्यक्ष इक्विटी, इक्विटी म्यूचुअल फंड, डेट म्यूचुअल फंड, ईएलएसएस म्यूचुअल फंड, पीएमएस, जीवन बीमा, स्वास्थ्य बीमा और अन्य सहित विभिन्न वित्तीय उत्पादों में अपने निवेश को विविधता देने से पहले निवेशक की वित्तीय ताकत और जोखिम उठाने की क्षमता को ध्यान में रखते हैं।

वेल्थोनिक की सेवाओं में इक्विटी, कमोडिटी, म्यूचुअल फंड, जीवन बीमा, स्वास्थ्य बीमा, पीएमएस और ब्रांड भी शामिल हैं। कंपनी की निदेशक और सी.आर.ओ. सुश्री प्रियंका को वित्तीय क्षेत्र और कॉर्पोरेट प्रबंधन में 7 वर्षों से अधिक का अनुभव है। उनके नेतृत्व में कंपनी साल दर साल राजस्व अर्जित कर रही है। 30 से अधिक सदस्यों की एक मजबूत टीम के साथ, जिनमें से 40% से अधिक महिलाएं हैं, और 400 से अधिक व्यावसायिक भागीदार हैं, कंपनी के पास 250 करोड़ से अधिक एयूएम और एनआरआई ग्राहकों सहित 25000 से अधिक निवेशक हैं, जो सभी वेल्थोनिक की सेवाओं पर भरोसा करते हैं।

राजस्थान के बीकानेर में 3600 वर्ग फुट क्षेत्र में स्थित होने के बावजूद, वेल्थोनिक अपनी सेवाओं को सभी के लिए सुलभ बनाने के लिए डिजिटल दुनिया का उपयोग कर रहा है। कंपनी भविष्य में दुनिया भर के ग्राहकों को लक्षित कर रही है, और डिजिटलीकरण पर इसका ध्यान यह सुनिश्चित करता है कि इसकी सेवाएँ किसी के लिए भी, कहीं भी आसानी से उपलब्ध हों।

वेल्थोनिक को अपने प्रतिस्पर्धियों से अलग करने वाले प्रमुख कारकों में से एक अपने ग्राहकों को व्यक्तिगत वित्तीय सेवा प्रदान करने की प्रतिबद्धता है। एक अन्य कारक जो वेल्थोनिक को अलग करता है, वह है इसका अनुसंधान और प्रौद्योगिकी पर ध्यान केंद्रित करना। कंपनी समझती है कि वित्तीय दुनिया लगातार विकसित हो रही है, और इसलिए, वह उद्योग में नवीनतम रुझानों और विकास के साथ अपडेट रहने के लिए प्रतिबद्ध है।

जैसे-जैसे वेल्थोनिक दुनिया भर में अपनी सेवाओं का विस्तार करना जारी रखता है, यह वित्तीय सेवा उद्योग में अग्रणी बनने की ओर अग्रसर है, जो दुनिया भर के ग्राहकों को अनुकूलित निवेश का प्रवेश प्रदान करता है। पीयूष शंगारी और प्रियंका गुगलानी के समर्पण और विशेषज्ञता ने वेल्थोनिक को बड़ी सफलता हासिल करने के लिए प्रेरित किया है, और अपने ग्राहकों को उत्कृष्ट सेवाएं प्रदान करने की उनकी प्रतिबद्धता निस्संदेह भविष्य में कंपनी की वृद्धि और सफलता को आगे बढ़ाती रहेगी।

https://instagram.com/wealthonic_capital?igshid=Y2IzZGU1MTFhOQ==

सूरत की डिजाइनर रिचा नारंग ने रेशम के कीड़े से सुंदर परिधान बनने तक की कहानी बताई फ़ैशन शो मे

सूरत की डिजाइनर रिचा नारंग ने हाल ही में 1-2 जुलाई 2023 के दौरान आगरा में आयोजित फैशन शो में अपना कलेक्शन “बुनावत” शोकेस किया। यह डिजाइनर कलेक्शन स्थानीय बुनकरों द्वारा भारतीय कपड़े का उपयोग करके एफ-एफ-एफ फाइबर टू फैब्रिक टू फैशन थीम के साथ बनाया गया है।

रिचा द्वारा खूबसूरती से डिजाइन किए गए आउटफिट इस विषय को स्पष्ट करते हैं कि, कैसे रेशम का कीड़ा कपड़े में और अंत में एक फैशन परिधान में परिवर्तित हो जाता है।इस फैशन शो में इनका हैंडमेड मलबारी सिल्क गाउन का कलेक्शन प्रस्तुत किया गया था। 2 दिनों के इस फैशन शो में अनेकों सेलिब्रिटी ने मुलाकात की। सभी को उनका कलेक्शन बहुत पसंद आया। इसे बनाने में 10 से 15 दिन का समय लगता है। उल्लेखनीय है कि, इस फैशन शो का आयोजन वर्ल्ड डिजाइनिंग फोरम डब्ल्यूडीएफ द्वारा आगरा विकास प्राधिकरण और यूपी सरकार के सहयोग से किया गया था। फैशन शो का उद्देश्य भारतीय संस्कृति और विरासत का उत्थान करना था।

अनाया फैशन ब्रांड की रिचा नारंग ने बताया कि हर पोशाक के निर्माण के पीछे की कहानी होता है। आउटफिट्स कपड़े की प्रक्रिया शुरू होती है एक छोटे से कीड़े यानी कि रेशमकीट के कोकून को बदलने से लेकर उसे एक रेशे में बदलने तक।वही रेशम से एक मुलायम और चमकदार सिल्क का कपड़ा बनता है। ये कपड़े से एक ग्लैमरस आउटफिट बनाने में, उसमें खूबसूरत रंग भरने में, बुनाई करने में, प्रिंट, कढ़ाई करने में हमारे देश के कारीगरों की दिन रात की मेहनत छुपी हुई है।

उन्होंने बताया कि आज के डिजिटल डिजाइन और ग्राफिक प्रिंटिंग के दौर में हमारे देश का ये हुनर अपनी संस्कृति से जुड़ा हुआ है। वहीं वसुधैव कुटुंबकम के G20 के विषय को शामिल करते हुए एक पृथ्वी एक परिवार के तहत बुनावत संग्रह भारतीय मूल के कपड़े शहतूत रेशम से बना है। जिसे पश्चिम बंगाल के बुनकरों द्वारा बुना जाता है। संग्रह में कारीगरों द्वारा किया गया सुंदर अजरख प्रिंट भी है और भुज के डिजाइनरों द्वारा खूबसूरती से डिजाइन किए गए कपड़े, रंगरेजों द्वारा रंग और इसके पीछे कई लोग। अपने भारतीय बुनकरों की कड़ी मेहनत को पहचानते हुए भारत की सुंदरता और आत्मा को अपनाएं। फैशन की आत्मा परिधान है, परिधानों की आत्मा कपड़ा है, कपड़े की आत्मा फाइबर है।

IVY Growth द्वारा आयोजित स्टार्टअप समिट में मिला अंदाजित 15 करोड़ रुपए का फंडिंग

सूरत: सूरत स्थित अग्रणी स्टार्टअप इकोसिस्टम सक्षम करने वाले IVY Growth एसोसिएट्स की ओर से आयोजित स्टार्टअप समिट ट्वेंटी वन बाय सेवेंटी टू भव्य प्रतिसाद मिलने के साथ सफल रहा। समिट के अंतिम दिन दस हजार से और तीन दिनों में कुल 16000 से अधिक विजिटर्स समिट में पहुंचे। वहीं, तीन दिन में 25 स्टार्टअप ने पिचिंग किया। निवेशकों ने भी रुचि दिखाते हुए 15 करोड़ रुपए का फंडिंग अलग अलग स्टार्टअप में करने की घोषणा की। समिट में शार्क टैंक फेम और BoAT के को फाउंडर अमन गुप्ता और गज़ल अलघ भी मौजूद रही। ग़ज़ल ने अपनी कंपनी मामाअर्थ के सफर के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि मामाअर्थ शुरू में सिर्फ बच्चों के लिए प्रोडक्ट बनाती थी, उसके बाद माताओं के लिए और अब सभी के लिए प्रोडक्ट बना रही है। उनकी कंपनी में अब 3000 से अधिक कर्मचारी काम कर रहे हैं।

गजल ने बताया कि हमे कोई कार्य हाथ में लेने के बाद पीछे नहीं हटना चाहिए। एक दिन सफलता जरूर मिलती है। साथ ही देश और समाज के लिए भी कुछ करना चाहिए इस पर जोर देते हुए कहा कि वे अपनी कमाई का कुछ हिस्सा पौधारोपण पर खर्च कर रही है। भविष्य में उनका लक्ष्य मामाअर्थ फॉरेस्ट बनाने का है। पिचिंग के लिए सिलेक्ट किए गए 25 स्टार्टअप में से 10 स्टार्टअप को शनिवार को बाकी के स्टार्टअप को रविवार को पिचिंग का अवसर मिला।इन स्टार्टअप में सूरत के चार स्टार्टअप भी शामिल हैं। वहीं, समिट में 80 जितने स्टार्टअप स्टॉल भी लगाए गए थे, जिसकी भी मुलाकातिओं ने मुलाकात ली।

इसके अलावा तीनों दिन स्टार्टअप संबंधित अलग अलग विषयों पर किनोट्स और पैनल डिस्कशन का भी आयोजन हुआ, जिसमें सार्थक आहूजा और अर्जुन वैद्य जैसे विशेषज्ञों ने स्टार्टअप पर विस्तृत जानकारी दी। इस आयोजन का उद्देश्य सूरत सहित गुजरात को वैश्विक स्टार्टअप इकोसिस्टम नक्शे पर रखने का था। 200+ स्टार्टअप संस्थापकों, 500+ निवेशकों और उद्योग के नेताओं सहित 10,000 से अधिक लोग स्टार्टअप समिट में शामिल हुए, जिसने इसे भारत में अपनी तरह का सबसे बड़ा स्टार्टअप समिट बना दिया। इस आयोजन ने नेटवर्किंग, सीखने और सहयोग के लिए एक मंच प्रदान किया। 50+ वीसी, 15+ एंजल नेटवर्क और 300+ एंजेल इन्वेस्टर्स की उपस्थिति के साथ इस कार्यक्रम ने स्टार्टअप्स और देश के शीर्ष के लिए अपने प्रस्तावों को प्रदर्शित करने तथा निवेशकों तक अपने विचारों पहुंचने एक अनूठा अवसर प्रदान किया।

IVY Growth एसोसिएट्स के सह- संस्थापक रचित पोद्दार ने कहा, “20 से अधिक राज्यों के 5,000 लोगों ने ट्वेंटीवन बाय सेवेंटी टू के पहले संस्करण में भाग लिया था। 35 पार्टनर स्टार्टअप्स में से 15-17 स्टार्टअप्स में निवेशकों ने रुचि दिखाई और टर्म शीट प्राप्त की थी। यह संस्करण उससे भी बड़ा और बेहतर रहा। प्रमुख वीसीएस जैसे एर्था वेंचर्स, वीकैट्स और ब्लूम वेंचर्स और सार्थक आहूजा, अर्जुन वैद्य, महावीर प्रताप शर्मा और 80 से अधिक उद्योग वक्ताओं का नेतृत्व मिला। जिन्होंने टेक्नोलोजी, बिजनेस और एंटरप्रेन्योरशिप के लेटेस्ट ट्रेंड पर अपनी कुशलता और अंतर्दृष्टि साझा किया।

समिट के मुख्य आकर्षण में से एक ट्रेलब्लेज़र माइन रहा। स्टार्टअप्स के लिए एक लाइव शार्क टैंक पिचिंग और धन इकठ्ठा वाला कार्यक्रम भी शामिल था। जिसमें चयनित स्टार्टअप्स को अपने विचारों को प्रतिष्ठित निवेशकों के एक पैनल के सामने रखने का अवसर दिया गया।

IVY Growth एसोसिएट्स भारत, यूके, यूएई, यूरोप और अफ्रीका के निवेशकों के साथ स्टार्टअप्स को जोड़कर सूरत को वैश्विक स्टार्टअप इकॉसिस्टम के मानचित्र पर लाने के मिशन पर है। यह उद्यमशीलता, अर्थव्यवस्था और रोजगार को बढ़ावा देने के लिए जो कल्पना की गई थी, उसे मूर्त रूप दे रहा है।

आयोजकों ने कहा हम सूरत को भारत का अगला स्टार्टअप हब बनाने के लक्ष्य की ओर आगे बढ़ रहे हैं। केवल डेढ़ साल में, IVY Growth ने अपने फंड से कुल $10 मिलियन (82 करोड़ रुपये) जुटाए और अपने नेटवर्क से सिंडिकेट फंड जिन कुछ स्टार्टअप्स में इसने निवेश किया है उनमें रेशमा मंडी, Zypp Electric और BlueSmart शामिल हैं।

IVY Growth टीयर II और III शहरों की अपार क्षमता में दृढ़ता से विश्वास करता है और इन क्षेत्रों में स्टार्टअप्स को पोषण और उद्यमिता को बढ़ावा देकर एक महत्वपूर्ण प्रभाव पैदा करने के लिए प्रतिबद्ध है। इसका उद्देश्य इन शहरों में मौजूद अप्रयुक्त प्रतिभा और अवसरों को अनलॉक करना और उनके आर्थिक विकास और विकास में योगदान देना है। IVY Growth ने टियर II और III शहरों में स्थित 20 से अधिक स्टार्टअप्स में महत्वपूर्ण निवेश किया है। इनमें से कुछ स्टार्टअप्स में एविफी, ग्रोविट, हिडन फ्लेवर्स, वैल्यूएशनरी, बोधि शामिल हैं। Al, Adkrity, और Bebeburp “जिन स्टार्टअप्स में हमने निवेश किया है, वे विभिन्न प्रकार के क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व करते हैं, जिनमें नवीकरणीय ऊर्जा, सुरक्षात्मक खेती, एडटेक, डायरेक्ट- टू- कंज्यूमर ब्रांड्स और अन्य शामिल हैं। हम किसी भी क्षेत्र से स्टार्टअप्स को फंडिंग के लिए खुले हैं। वर्तमान में हमारे फंडिंग संसाधनों में विविधता लाने के लिए एग्रीटेक, डी2सी, क्लीनटेक, सास और ईवी जैसे क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करना।

IVY Growth में महत्वाकांक्षी विकास योजनाएं हैं। इसने $15 मिलियन (123 करोड़ रुपये) के लक्ष्य आकार के साथ AIF CAT I – VC फंड स्थापित करने के लिए आवेदन किया है, जिसका उद्देश्य स्टार्टअप्स के लिए बड़ी धनराशि इकठ्ठी करने वाले दौर तक पहुंच प्रदान करना है। इसने हाल ही में एक प्रोप्रायटरी टेक प्लेटफॉर्म www.angeltech.in भी लॉन्च किया है, जो संभावित निवेशकों को होनहार स्टार्टअप डील दिखाने के लिए एक व्यापक केंद्र के रूप में कार्य करता है। अपनी विस्तार रणनीति के हिस्से के रूप में यह एक वैश्विक कॉरिडोर का निर्माण कर रहा है जो मध्य पूर्व और यूरोप पर विशेष ध्यान देने के साथ एंजेल निवेशकों और स्टार्टअप्स को जोड़ता है।

ભારત વિશ્વમાં આઇટી સર્વિસ ક્ષેત્રે પ્રથમ ક્રમાંકે

ઇસરો– અમદાવાદના સ્પેસ એપ્લીકેશન રિસર્ચ સેન્ટરના ડાયરેકટર નિલેશ એમ. દેસાઇ તથા અમદાવાદ યુનિવર્સિટીના પ્રોફેસર ડો. મેહુલ એસ. રાવલ અને ઇન્ડિયા ઇલેકટ્રોનિકસ એન્ડ સેમીકન્ડકટર એસોસીએશનના ગુજરાત ચેપ્ટરના ચેરમેન સુધીર નાઇકે આઇટી ક્ષેત્રે સંકળાયેલા ઉદ્યોગ સાહસિકો અને પ્રોફેશનલ્સને માર્ગદર્શન આપ્યું

સુરત. ધી સધર્ન ગુજરાત ચેમ્બર ઓફ કોમર્સ એન્ડ ઇન્ડસ્ટ્રી દ્વારા શુક્રવાર, તા. ર જૂન ર૦ર૩ ના રોજ સાંજે ૪:૦૦ થી રાત્રે ૮:૦૦ કલાક દરમિયાન પ્લેટિનમ હોલ, સરસાણા, સુરત ખાતે IT/ITES કોન્કલેવ ર૦ર૩ નું આયોજન કરવામાં આવ્યું હતું. જેમાં મુખ્ય મહેમાન તરીકે અમદાવાદ સ્થિત ઇસરોના સ્પેસ એપ્લીકેશન રિસર્ચ સેન્ટરના ડાયરેકટર નિલેશ એમ. દેસાઇ, અતિથિ વિશેષ તરીકે અમદાવાદ યુનિવર્સિટીના એક્ષપિરીએન્શલ લર્નિંગના એસોસીએટ ડીન અને પ્રોફેસર ડો. મેહુલ એસ. રાવલ અને નિષ્ણાત વકતા તરીકે એન્ફોચિપ્સ લિમિટેડના ફાઉન્ડર તેમજ ઇન્ડિયા ઇલેકટ્રોનિકસ એન્ડ સેમીકન્ડકટર એસોસીએશનના ગુજરાત ચેપ્ટરના ચેરમેન સુધીર નાઇક ઉપસ્થિત રહયા હતા અને તેઓએ ઇન્ફોર્મેશન ટેકનોલોજી સાથે સંકળાયેલા પ્રોફેશનલ્સ અને ઉદ્યોગ સાહસિકોને માર્ગદર્શન આપ્યું હતું. આ કોન્કલેવના આયોજન માટે ચેમ્બરની આઇટી એન્ડ કોમ્યુનિકેશન કમિટીએ મહત્વની ભૂમિકા ભજવી હતી.

ચેમ્બર ઓફ કોમર્સના પ્રમુખ હિમાંશુ બોડાવાલાએ જણાવ્યું હતું કે, ભારત હાલમાં વિશ્વમાં આઇટી સર્વિસ ક્ષેત્રે પ્રથમ ક્રમાંકે છે અને વિશ્વના કુલ માર્કેટના ૩પ ટકા માર્કેટ શેર ધરાવે છે. ભારતમાં હાલ આઇટી ક્ષેત્રે લગભગ પપ લાખ લોકોને રોજગારી મળે છે અને ભારતના કુલ જીડીપીમાં આઇટી ક્ષેત્રનું યોગદાન ૧૦ ટકા જેટલું છે. ગુજરાતની વાત કરીએ તો ગુજરાતમાંથી રૂપિયા આઠ હજાર કરોડની આઇટી સંબંધિત વસ્તુઓનું એક્ષ્પોર્ટ થાય છે, જેને વધારવા માટે ઉદ્યોગ સાહસિકો અને પ્રોફેશનલ્સને પ્રયાસ કરવો પડશે. ચેમ્બર દ્વારા તેઓને યોગ્ય દિશામાં માર્ગદર્શન મળી રહે તે હેતુથી જ આ કાર્યક્રમનું આયોજન કરવામાં આવ્યું છે.

નિલેશ એમ. દેસાઇએ જણાવ્યું હતું કે, સ્પેસના પાર્ટ્‌સ માટે એમએસએમઇની મિકેનિકલ ઇન્ડસ્ટ્રી સંકળાયેલી હતી, જેના થકી સ્પેસ માટેના વિવિધ પાર્ટ્‌સ પૂરા પાડવામાં આવતા હતા. આઇટી ક્ષેત્રે ઉદ્યોગ સાહસિકો હવે સ્પેસ પોલિસી અને ડેટા પોલિસીને આધારે બિઝનેસ કરી શકે છે. હવે ૪૦ ટકા કામ એમએસએમઇ થકી કરવામાં આવે છે. આઇટી ક્ષેત્રે ઉદ્યોગ સાહસિકો અને પ્રોફેશનલ્સને ઇસરો આખો બેકગ્રાઉન્ડ આપશે. તેમણે તેઓને એગ્રીકલ્ચરની એપ્લીકેશન બનાવવા સૂચન કર્યું હતું અને એના માટે ઇસરો મદદ કરશે તેમ જણાવ્યું હતું.

વધુમાં તેમણે સ્પેસ એન્ડ ડિફેન્સમાં આર્ટિફિશિયલ ઇન્ટેલિજન્સ સોફટવેર / હાર્ડવેરની ભૂમિકા અને તકો વિષે માહિતી આપી હતી. આ ઉપરાંત તેમણે સેટેલાઇટ કોમ્યુનિકેશન, અર્થ ઓબ્ઝર્વેશન, નેવીગેશન સિસ્ટમ, જીપીએસ ટેકનોલોજી અને કવોન્ટમ ફ્રન્ટરીઝ ટેકનોલોજી વિષે વિસ્તૃત માહિતી આપી હતી.

ઇસરોના સ્પેસ એપ્લીકેશન્સ સેન્ટરના સાયન્ટીસ્ટ શશિકાંત શર્માએ જણાવ્યું હતું કે, સેટેલાઇટ ઇમેજ પ્રોસેસિંગમાં રડાર ડેટાથી આખા વિસ્તારની માહિતી મેળવી શકાય છે. ભારતના કયા વિસ્તારમાં કૃષી ક્ષેત્રે પાક વધુ લેવાયો છે ? તેના વિષે જાણી શકાય છે. તેમણે ઉદ્યોગ સાહસિકોને ડેટા એનાલિટિકસ એન્ડ સેટેલાઇટના ઇમેજ પ્રોસેસિંગ વિષે વિસ્તૃત માહિતી આપી હતી.

ડો. મેહુલ એસ. રાવલે જણાવ્યું હતું કે આર્ટિફિશિયલ ઇન્ટેલિજન્સ, મશિન લર્નિંગ પ્રોગ્રામ એ ઇન્ટરેકશનની સાથે કરવામાં આવે છે. વાતાવરણની સાથે સંકળાઇને જુદી–જુદી પદ્ધતિથી આ પ્રોગ્રામ શીખી શકાય છે. આર્ટિફિશિયલ ઇન્ટેલિજન્સ અને મશિન લર્નિંગમાં અલગ અલગ ડોમેન હોય છે. આર્ટિફિશિયલ ઇન્ટેલિજન્સને જેવો ડેટા આપવામાં આવે છે એવી રીતે એ શીખે છે, આથી એઆઇ અલ્ગોરિધમમાં યોગ્ય ડેટા નાંખવો જરૂરી છે. તેમણે ભારત અને વૈશ્વિક માર્કેટમાં આર્ટિફિશિયલ ઇન્ટેલિજન્સ અને સોફટવેર માટેની તકો અને આ તકોને સ્ટાર્ટ–અપ કઇ રીતે ઝડપી શકે છે ? તેના વિષે ઉદ્યોગ સાહસિકોને માહિતગાર કર્યા હતા.

સુધીર નાઇકે જણાવ્યું હતું કે, બિઝનેસને વધારવા માટે ત્રણ બાબતો જેવી કે માર્કેટ, કેપેસિટી બિલ્ડિંગ (ટેલેન્ટ) અને રૂપિયા જરૂરી છે. આ ત્રણેય બાબતો ગુજરાતમાં ઉપલબ્ધ છે. આઇટી ક્ષેત્રે ટેકનોલોજીમાં દર છ મહિને બદલાવ આવે છે. બિઝનેસ વધારવા માટે ઉદ્યોગ સાહસિકો યોગ્ય દિશામાં કેટલો પ્રયાસ કરે છે તે બાબત મહત્વની સાબિત થાય છે. આથી તેમણે આઇટી/આઇટીઝ/ઇલેકટ્રોનિક પ્રોડકટ બિઝનેસને કઇ રીતે વધારી શકે છે ? તેના વિષે વિસ્તૃત જાણકારી આપી હતી.

આ ઉપરાંત ગુજરાત સ્ટેટ ઇલેકટ્રોનિકસ મીશનના આઇસીટી ઓફિસર હર્ષ ગુર્જરે ઇલેકટ્રોનિક પોલિસી વિષે માહિતી આપી હતી. જ્યારે ડાયરેકટોરેટ ઓફ આઇસીટી એન્ડ ગવર્નન્સના આઇસીટી ઓફિસર મહેશ રાઘવાનીએ આઇટી પોલિસી વિષે જાણકારી આપી હતી.

કોન્કલેવમાં ચેમ્બર ઓફ કોમર્સના પ્રેસિડેન્ટ ઇલેકટ રમેશ વઘાસિયા અને વાઇસ પ્રેસિડેન્ટ ઇલેકટ વિજય મેવાવાલા ઉપસ્થિત રહયા હતા. માનદ્‌ મંત્રી ભાવેશ ટેલરે નિષ્ણાંત વકતા સુધીર નાઇકનો પરિચય આપ્યો હતો. જ્યારે ગૃપ ચેરમેન બશીર મન્સુરીએ કાર્યક્રમની રૂપરેખા આપી સર્વેનો આભાર માન્યો હતો. ચેમ્બરની આઇટી એન્ડ કોમ્યુનિકેશન કમિટીના ચેરમેન ગણપત ધામેલિયાએ મુખ્ય મહેમાન નિલેશ દેસાઇનો પરિચય આપ્યો હતો.

ચેમ્બરની આર્ટિફિશિયલ ઇન્ટેલિજન્સ એન્ડ ડિજિટલ ટ્રાન્સફોર્મેશન કમિટીના ચેરપર્સન ડો. વંદના શાહ અને આઇટી એન્ડ કોમ્યુનિકેશન કમિટીના કો–ચેરમેન પુનીત ગજેરાએ કોન્કલેવનું સંચાલન કર્યું હતું. પુનિત ગજેરાએ અતિથિ વિશેષ ડો. મેહુલ રાવલનો પરિચય પણ આપ્યો હતો. કોન્કલેવમાં પપ૦ થી વધુની સંખ્યામાં આઇટી ક્ષેત્ર સાથે સંકળાયેલા ઉદ્યોગ સાહસિકો અને પ્રોફેશનલ્સ ઉપસ્થિત રહયા હતા, જેઓના વિવિધ સવાલોના નિષ્ણાંતોએ જવાબો આપ્યા હતા અને ત્યારબાદ કોન્કલેવનું સમાપન થયું હતું.

मितवा के सीईओ को अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी फिल्म पुरस्कारों में “भोजपुरी पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर” अवार्ड से सम्मानित

मितवा की एक और उपलब्धि, मितवा के सीईओ को अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी फिल्म पुरस्कारों में “भोजपुरी पर्सनैलिटी ऑफ द ईयर” अवार्ड से सम्मानित किया गया।

भोजपुरी मनोरंजन का पर्याय बन चुके मितवा ने सबसे तेजी से बढ़ते ओटीटी प्लेटफॉर्म के रुप में सुर्खियां बंटोरते हुए सबसे पहले सबसे कम समय में में मोनोटाइज ओटीटी प्लेटफॉर्म होने का गौरव प्राप्त किया और अब मितवा अपने सीईओ अवनीश के लिए फिर से सुर्खियां बंटोर रहा है। बता दें कि हाल ही में दुबई में संपन्न हुए अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी फिल्म अवार्ड्स में अविनाश राज को ‘भोजपुरी पर्सनैलिटी अवार्ड’ से सम्मानित किया गया।

अविनाश राज को ये पुरस्कार आईएमपीपीए के अध्यक्ष श्री अभय सिन्हा और पूर्व अध्यक्ष श्री टी.पी. अग्रवाल ने प्रदान किया। इस पुरस्कार समारोह में एमपी और भारतीय सांसद मनोज तवारी, दिनेश लाल यादव, प्रमुख भोजपुरी सुपरस्टार पवन सिंह सहित अन्य लोगों ने भी भाग लिया। पुरस्कार समारोह में कई विदेशी हस्तियों ने भी शिरकत की। यह पुरस्कार भोजपुरी मनोरंजन उद्योग में मितवा के उत्कृष्ट योगदान को पहचानने के लिए दिया गया है, विशेष रूप से भोजपुरी संस्कृति और प्रतिभा को बढ़ावा देने के प्रयासों के लिए।
पुरस्कार प्राप्त करने पर, अविनाश राज ने अपना आभार व्यक्त किया और कहा, “यह पुरस्कार प्राप्त करना एक सम्मान की बात है और मैं इस सम्मान के प्रति बेहद विनम्र हूं। मैं यह पुरस्कार पूरी मितवा टीवी टीम को समर्पित करता हूं, जिसकी कड़ी मेहनत और समर्पण ने यह संभव हुआ है। हम अपने मंच के माध्यम से भोजपुरी संस्कृति और प्रतिभा को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं और हम इस लक्ष्य की दिशा में काम करना जारी रखेंगे।“
यह पुरस्कार मितवा टीवी की भोजपुरी संस्कृति और प्रतिभा को बढ़ावा देने की प्रतिबद्धता और भारत के भोजपुरी भाषी क्षेत्रों में इसके बढ़ते प्रभाव का प्रमाण है। मितवा टीवी एक ऐसा मंच है जो भोजपुरी मनोरंजन का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करता है, और अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी फिल्म पुरस्कारों में इसकी मान्यता कंपनी के लिए एक महत्वपूर्ण उपलब्धि है।


इस मौके पर मितवा टीवी के एमडी राघवेश अस्थाना ने कहा, “मितवा सिर्फ एक मंच नहीं है, बल्कि यह दुनिया भर में भोजपुरी बोलने वाले दर्शकों की एक सामूहिक आवाज है”
हम भोजपुरी फिल्म उद्योग में मितवा टीवी के योगदान को मान्यता देने के लिए अंतर्राष्ट्रीय भोजपुरी फिल्म पुरस्कार को धन्यवाद देना चाहते हैं और इस योग्य पुरस्कार के लिए अविनाश राज को बधाई देते हैं।

बता दें कि मितवा एक भारतीय ओटीटी प्लेटफॉर्म है जिसकी भोजपुरी आदि क्षेत्रीय भाषाओं के प्रति मनोरंजन की प्रतिबद्धता है और इसे पहले सफल भोजपुरी सैटेलाइट चैनल चलाने वाली टीम द्वारा संचालित किया जा रहा है। मितवा इस परिपेक्ष में अपनी अलग पेशकश के साथ भोजपुरी बाजार को फिर से परिभाषित कर रहा है कि जहां
प्रमुख ओटीटी का ध्यान महानगरों पर है, मितवा अपनी अंदरूनी रणनीति के साथ छोटे शहरों (टीयर 2, टीयर 3)पर ध्यान केंद्रित कर रहा है वहां वो उन अनछुए क्षेत्रों को अपनी पहुंच बना रहा है जहां अभी भी मनोरंजन नहीं पहुंचा है।

अधिक जानकारी के लिए आप मितवा टीवी के जनसंपर्क प्रमुख मोहित जेलखानी से mohit@mitwatv.com पर संपर्क कर सकते हैं।