कुछ क्षेत्रों में फिर से शुरू हुए हीरा कारख़ाने, पर चमकनें में लगेगी देर

Spread the love

सूरत
लॉकडाउन-4 मे शर्तों के साथ मिली छूट के बाद कई स्थानों पर व्यापार धंधा शुरू हो गया है। सचिन जीआईडीसी और अंजनि इन्स्ट्रियल एस्टेट में कुछ कारख़ाने शुरू होनें के बाद बुधवार से नॉन-कन्टेनमैंट क्षेत्र के कुछ हीरा कारख़ाने खुले।


लॉकडाउन-4 मे सरकार ने कई सेक्टर को शर्तो के साथ कई छूट दी है। बुधवार को वराछा-कतारागाम में हीरा इकाइयों का संचालन फिर से शुरू किया। वराछा के सवाणी एस्टेट और नटुदोशी के वाडी में छोटे कारख़ाने चालू हो गए है।। संचालकों और हीरा श्रमिकों ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए मास्क पहना और सोशल डिस्पेंसके साथ काम करना शुरू किया।


हीरा उधमी महेन्द्र नावडिया में बताया कि हीरा कारख़ाने चालू हो रहे है लेकिन उन्होंने अपना कारखाना नही शुरू किया क्योंकि उनके पास रफ़ हीरों का स्टाक नहीं है इसलिए वह पहले रफ़ी हीरों की ख़रीदी करेंगे इसके बाद उत्पादन शुरू करेंगें जादातर हीरा उद्यमियों का यही हाल है।


यहाँ हीरा उधोग खिलने के बाद भी मुंबई का हीरा उधोग नहीं खुला तो मुसीबत होगी, इसके अलावा श्रमिक भी नहीं है। परिस्थिति सामान्य होने में एकाध महीना बीत जाएगा। सूरत के हीरा उधोग में काम करने वाले ज़्यादातर श्रमिक उत्तर गुजरात के है जो कि अपने वतन जा चुके हैं उन्हें वापिस लौटने में समय लगेगा। तब तक हीरा उधोग में श्रमिकों की कमी बनी रहेगी।

अन्य एक हीरा उद्यमी निलेश बोडकी ने बताया कि सूरत का हीरा कारोबार मुख्य तौर पर मुंबई से जुड़ा है। वहाँ व्यापार शुरू होने के बाद सूरत का हीरा उधोग गति पकड़ेगा। फ़िलहाल सूरत में १०-१५ प्रतिशत व्यापार है। ज़्यादातर हीरा श्रमिक वतन चले जाने से भी दिक़्क़त है। नया हीरा तैयार होने में १५ दिन तक का समय लगता है। फ़िलहाल व्यापार नियमित होनें में समय लगेगा।

25 मई से घरेलू उड़ानें शुरू,

केन्द्र लॉकडाउन रखने के साथ धीरे-धीरे सारी व्यवस्था शूरू कर रही है। एक जून से दो सौ पैसंजेर शुरू करने के साथ ही २५ मई से घरेलू उडान भी शुरू करने का फ़ैसला केन्द्र सरकार ने लिया है।नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने यह घोषणा करते हुए सभी एयरपोर्ट और एयरलाइनों को तैयारी रहने को कहा है।

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा ‘घरेलू नियमित कामर्शियल उड़ानें 25 मई सोमवार से शुरु हो जाएंगी। इसके लिए सभी एयरपोर्ट और एयरलाइनों को इसके लिए तैयार रहने को कहा गया है। हालाँकि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए फिलहाल सीमित उड़ानों को ही इजाजत दी जा सकती है। कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप पर काबू पाने के लिए एहतियात के तौर पर सभी घरेलू व अंतरराष्ट्रीय उड़ानें लाकडाउन की घोषणा के साथ ही 25 मार्च से बंद कर दी थीं।
सरकार के इस फैसले से पिछले दो महीने से लाकडाउन में फंसे लोगों को बड़ी राहत मिली है। लॉकडाउन के कारण ट्रेन और विमान सेवा एक साथ बंद हो जाने के कारण लाखो लोगों को परेशानी का सामना करना पड रहा है।
नागरिक उड्डयन मंत्रालय के मुताबिक फ्लाइट पकड़ने वाले यात्रियों को उनकी स्वास्थ्य सुरक्षा, एयरपोर्ट पर काम करने वाले कर्मचारियों और एयरलाइनों के लिए विस्तृत आचार संहिता के बारे में बाद में अलग से दिशानिर्देश जारी किया जाएगा।
केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने ट्वीट किया था कि घरेलू उड़ानों की बहाली का फैसला केवल मिनिस्‍ट्री ऑफ सिविल एविएशन, गवर्नमेंट ऑफ इंडिया या केंद्र अकेले नहीं ले सकता। सहकारी संघवाद की भावना ने राज्‍यों सरकारों की भी, जहां से ये फ्लाइट टेकऑफ और लेंडिंग करेगी, को भी अनुमति देने के लिए तैयार होना चाहिए।
विमान बंद हो जाने के कारण विमानी कंपनियाँ बुरी तरह से नुक़सानों का सामना कर रही थी। उन्हें राहत होगी।