सरकारी बाबू ने 20 लाख रूपए जला दिए


आए दिन राजस्थान में भ्रष्टाचार के कई केस सामने आ रहे है। ऐसे ही एक मामले में एक तहसीलदार के घर पर एन्टि करप्शन ब्यूरो की टीम ने छापा मारा। भनक आ जाने पर तहसीलदार रूम बंद कर 20 लाख रुपए के नोट चूल्हे पर रख कर जलाने लगे। एसीबी की टीम ने 1 लाख 60 हजार रुपए की नोट जप्त कर ली थी।


एसीबी से प्राप्त हुई जानकारी के अनुसार, एक कांट्रैक्ट के लिए रेवेन्यू इंस्पेक्टर परबत सिंह ने शिकायतकर्ता से डेढ लाख रुपए की रिश्वत ली थी। एसीबी के पकड़ने के बाद परबत सिंह ने कहा की यह रिश्वत उसने कल्पेश जैन के कहने से ली थी। जिसके चलते एसीबी की टीम कल्पेश जैन के घर पहुंची थी।

जिसे देख कर कल्पेश ने 500-500 की नोट की लगभग 20 लाख रुपये चूल्हे पर रख कर जलाना शुरू कर दिया, जिसमें उनकी पत्नी भी सहायता कर रही थी। हालांकि एसीबी की टीम ने इस घटना का पूरा वीडियो निकाल लिया था।

इसके बाद एसीबी की टीम ने कल्पेश जैन को हिरासत में लिया था, इसके अलावा उनके पास से 1 लाख 60 हजार जप्त करने में भी सफल रही थी। एसीबी के डिरेक्टर भगवानलाल सोनी ने कहा की आरोपी सब डिवीज़नल मेजिस्ट्रेट कल्पेश जैन ने एक कांट्रैक्ट देने के लिए 1.5 लाख की रिश्वत मांगी थी। इसके लिए उन्होंने परबतसिंह को सूचना दी थी।।

सूरत: चौकबाजार पीएसआई ने बलात्कार का केस कमजोर करने का पैसा माँगा?एसीबी की एन्ट्री हुई

सूरत के चौकबाजार पुलिस स्टेशन में दर्ज एक बलात्कार के मामले में केस को कमजोर करने तथा आरोपी को अग्रिम जमानत मिले इस तरह से एफिडेविट करने के लिए चौकबाजार पुलिस सब इन्सपेक्टर पीएसआई एस.ए. गढवी के खिलाफ एसीबी ने शिकायत दर्ज की है। 


आरोप है कि लांच की रकम मांगने वाले पीएसआई गढवी को रंगेहाथ पकड़ने के लिए पुलिस ने एक महीने पहले ट्रेप रखी थी, लेकिन वह निष्फल होने के बाद अन्य सबूतों के आधार पर एसीबी ने केस दर्ज किया है।


मिली जानकारी के अनुसार चौकबाजार पुलिस स्टेशन में दर्ज बलात्कार के मामले में पुलिस ने एक आधेड को गिरफ्तार किया था। केस में आरोपी को लाभ मिल सके इस तरह से केस को बनाने और अग्रिम जमानत मिल सके इस तरह के पेपर तैयार करने के लिए पीएसआई गढवी ने आरोपी के पुत्र से ढाई लाख रुपए मांगे थे।

उस समय दो लाख जमानत के पहले और पचास हजार जमानत के बाद देने का फैसला किया गया था। इस बारे में आरोपी के पुत्र ने ग्राम्य एसीबी का संपर्क किया। केस दाखिल करने के बाद एसीबी पीएसआई आर के  सोलंकी ने 5 सितंबर को ट्रेप रखा, लेकिन पीएसआई गढवी ने रुपए नहीं लिया और ट्रेप असफल रहा। 


अब अहमदाबाद एसीबी मुख्य कार्यालय से प्राथमिक जांच के आदेश के बाद बलात्कार के आरोपी के पुत्र की ओर से मिले साइन्टिफिक सबूत सहित अन्य सबूत मिलने के बाद पीएसआई गढवी के खिलाफ केस दर्ज कराया है।