अहमदाबाद की घटना के बाद सूरत की कोरोना अस्पतालों में होगी यह जांच

अहमदाबाद के नवरंगपुरा क्षेत्र स्थित श्रेय हॉस्पिटल में आग लगने के कारण गुरूवार सबेरे 8 लोगों की मौत हो गई। इस घटना के बाद सूरत का प्रशासन भी सतर्क हो गया है। सूरत में कोरोना का उपचार करने वाले अस्पतालों में फायर सेफ्टी के साधनों की जांच के आदेश दे दिए गए हैं।


चीफ फायर ऑफिसर बसंत पारीक ने कहा कि सूरत में कोरोनावायरस के लिए 42 अस्पताल नामांकित किए गए हैं। उनमें फायर सेफ्टी के साधनों की जांच की जा रही है। आपको बता दें कि सूरत महानगर पालिका में कोरोनावायरस लिए 42 अस्पतालों को नामांकित किया गया है, इसमें 8000 से अधिक कोरोना के बेड की व्यवस्था की गई है। अहमदाबाद की आज की दुर्घटना के बाद समय सूचकता देखते हुए कोरोना की तमाम हॉस्पिटल में फायर ब्रिगेड की ओर से एक जवान तैनात किया जाएगा। ताकि कोई आकस्मिक संजोग हो तो उस पर नियंत्रण पाया जा सके

अहमदाबाद की श्रेय होस्पिटल में आग, कोरोना के आठ मरीज मरे
गुरुवार सवेरे अहमदाबाद से एक चिंताजनक समाचार सामने आ रहे हैं।अहमदाबाद की श्रेय हॉस्पिटल में भयानक आग लग जाने के कारण अफरा-तफरी का माहौल बन गया। बताया जा रहा है कि इस आग कोरोना के कारण उपचाराधीन कई मरीजों की मौत भी हो गई।


मिली जानकारी के अनुसार अहमदाबाद के श्रेय हॉस्पिटल में कोरोना के मरीजो का उपचार किया जाता है। ऐसे में गुरुवार की सवेरे कोरोना के लिए बनाए गए विशेष अस्पताल में किन्ही कारणों से आग लग गई। देखते-देखते आग ने बडा रूप धारण कर लिया।

यहां पर मौजूद लोगों ने घटना के बारे में फायर ब्रिगेड को जानकारी दी। फायर ब्रिगेड की टीम घटनास्थल पर पहुंचे इससे पहले ही यहां पर भगदड़ मच गई थी और 8 लोगों की मौत हो गई। यह 8 लोग कोरोना के कारण अस्पताल में उपचार के लिए आए थे। बताया जा रहा है कि राहत कार्य जारी है। सभी मरीजों को रेस्क्यू करके दूसरी जगह ले जाया गया।

एहतियात के तौर पर कोरोनावायरस का क्षेत्र कॉर्डन कर लिया गया है। हालांकि अभी तक यह स्पष्ट नहीं हो पाया है कि आग लगने की वजह क्या थी।बताया जा रहा है कि यहां पर 49 मरीजों का उपचार चल रहा था। जिसमें कि मरने वाले 8 लोगों में अरविंद भावसार, नवीन लाल शाह, लीलावती शाह, आशाबेन तिरमिश, मनु भाई रामी, ज्योति भाई सिंधी, नरेंद्र शाह और आरिफ मंसूर शामिल हैं।

यह आग सवेरे 3:15 बजे लगी। कुछ ही देर में फायर ब्रिगेड की गाड़ी पहुंच गई थी और 4:20 पर आग पर काबू पा लिया गया था। आग लगने का कारण अभी नही पता चला है।