कोरोना काल में हनुमानजी की आराधना,दो लाख लोगों ने लिखी श्री हनुमंत वंदना

“संकट कटे मिटे सब पीड़ा, जो समूरे हनुमंत बलबीरा” संकट के समय हनुमानजी को ही याद किया जाता है | कोरोना संक्रमण के इस कठिन समय में सूरत में हनुमंत भक्ति की बयार से बाह रही है | घर बैठे लोगों में धार्मिक श्रद्धाभाव बढ़ाने के उद्देश्य से एकल श्रीहरि सत्संग समिति द्वारा ऑनलाइन अखिल भारतीय एकल निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया।

समिति के राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष सी.ए. महेश मित्तल ने बताया की समिति की रजत जयंती एवं श्रीहनुमंत जन्मोत्सव के उपलक्ष में ऑनलाइन अखिल भारतीय एकल निबंध प्रतियोगिता का आयोजन किया गया | प्रतियोगिता में भाग लेने वालों को श्रीहनुमंत वंदना के रूप में “श्री हनुमानजी महाराज के जीवन से हमें क्या प्रेरणा मिलती है…” विषय पर अधिकतम 75 शब्दों में निबंध हिंदी, अंग्रेजी, संस्कृत के अलावा अन्य स्थानीय भाषा में लिख कर व्हाट्सएप, ई-मेल या अन्य ऑनलाइन माध्यम से भेजना था |

इस प्रतियोगिता की अंतिम तिथि 31 मई थी | सी.ए. महेश मित्तल ने बताया की प्रतियोगिता में देश भर से करीबन 1,80,000 लोगों ने अपनी प्रविष्टि भेजी | जिसमे से करीबन 1,70,000 व्हाट्सएप, 3000 मेल एवं 7000 अन्य माध्यम से प्राप्त हुई | सभी प्रविष्टियों की जाँच का काम जारी है, आगामी कुछ दिनों में प्रतियोगिता का रिजल्ट जारी किया जायेगा एवं विजेताओं को समिति द्वारा पुरस्कार दिया जायेगा |

कार्यक्रम की सफलता में समिति के अध्यक्ष रतनलाल धारूका, मंत्री रमेश अग्रवाल, कोषाध्यक्ष विश्वनाथ सिंघानियां, महिला समिति की अध्यक्ष विजयलक्ष्मी गाड़िया सहित अनेकों सदस्यों का योगदान रहा यज्ञ का हुआ अनुष्ठान – विश्व पर्यायवरण दिवस पर एकल अभियान के तत्वाधान में वायुमंडल शुद्धि हेतु सामूहिक यज्ञ का अनुष्ठान शनिवार को सुबह दस बजे से किया गया।

आयोजन में देश भर से करीबन 60,000 लोगों ने अपने-अपने घरों में यज्ञ का आयोजन किया | आचार्य वीरेंद्र जी याज्ञनिक द्वारा सोशल मीडिया, ज़ूम एप, यू-ट्यूब आदि के द्वारा मंत्रोचारण के साथ यज्ञ करवाया गया |