महाराष्ट्र और गुजरात में निसारगा तूफ़ान की आशंका से अलर्ट !


सूरत
हवामान विभाग ने महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय क्षेत्रों में निसारगा तूफान के कारण रेड अलर्ट घोषित किया है। इस तूफान के कारण अभी से ही गुजरात के भावनगर में तेज बरसात हो रही है।

भारतीय हवामान विभाग के सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार यह तूफान 3 जून को रात के समय महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात के किनारे टकराने की संभावना है। जिसके चलते महाराष्ट्र और गुजरात के तटीय क्षेत्रों में भारी बरसात भी हो सकती है। केरल कर्नाटक गोवा और महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्रों के लिए 1 जून को ऑरेंज अलर्ट घोषित किया गया है।

अरब सागर और लक्ष्यदीप के बीच समुद्र में कम दबाव वाले क्षेत्र इस तूफान को और तेज बना सकते हैं। तेज हवा के चलते मछुआरों को आगामी 4 दिन तक समुद्र में नहीं जाने की सलाह दी गई है। हाल में ही पश्चिम बंगाल में अम्फान तूफान के कारण बहुत नुकसान हुआ है। इसके बाद अब निसारगा के कारण फिर से एक बार नुकसान की आशंका व्यक्त की जा रही है। 4 जून तक वातावरण को भी खराब रहने की आशंका व्यक्त की गई है इसके अलावा बड़े जोरों से तूफान चल सकता है।


गुजरात सरकार ने भी समुद्र के किनारे के सभी क्षेत्रों में प्रशासन को अलर्ट कर दिया है। बताया जा कहा है कि तूफ़ान के कारण सोमवार की सुबह भी सूरत में कुछ देर तेज हवा बही।

दो महीने के बाद खुले कपड़ा मार्केट व्यापारी हुए गदगद

देशभर में फैले कोरोना के कारण लोक डाउन के चलते बंद कपड़ा बाजार आज 71 दिनो के बाद फिर से खुल गया। आज कई दिनों के बाद पहुंचे कपड़ा व्यापारी अपनी दुकानों का ताला खोलने के साथ ही गदगद हो गए। व्यापारियों के लिए आज का दिन उत्सव के समान है।कपड़ा बाजार में सवेरे 10:00 बजे से ही व्यापारी पहुंचना शुरू हो गए थे।

लॉकडाउन के कारण कपड़ा व्यापारियों को कई शर्तों के साथ दुकानें खोलने की इजाजत दी गई है।जिसके चलते दुकान खोलने का समय भी बदल दिया गया है।अब से दुकान सवेरे 8:00 बजे से 4:00 बजे तक खुली रख सकते हैं।फिलहाल मनपा प्रशासन ने लिंबायत जोन और सेंट्रल जोन दोनों मिलाकर कुल 162 कपड़ा मार्केट खोलने की अनुमति कपड़ा व्यापारियों को दी है। 10 से 12 मार्केट को लेकर अभी भी प्रशासन ने मंजूरी नहीं दी है।

इसके चलते वह मार्केट बंद रहे। कपड़ा व्यापारियों ने आज पहले दिन अपने दुकानों की साफ सफाई की और कुछ बिल संबंधित काम काज किए।कपड़ा मार्केट में काम करने वाले ज्यादातर श्रमिक यूपी,बिहार,महाराष्ट्र आदि राज्यों के हैं जो कि अपने गांव जा चुके हैं। इसलिए वह नहीं आने के कारण व्यापारियों को खुद ही छोटे-मोटे काम कर लेना। कपड़ा मार्केट का टाइम बदल जाने के कारण व्यापारियों को भी अपना शिड्यूल बदलना पड़ा।

सामान्य तौर पर पहले व्यापारी 12:00 से 1:00 के बीच अपनी दुकानों पर पहुंचते थे लेकिन, आज व्यापारियों को अपना समय बदलना पड़ा और 10:00 बजे के करीब व्यापारी अपने दुकानों पर पहुंच गए।व्यापारियों को अब अपने भोजन का समय भी बदलना पड़ सकता है। कपड़ा व्यापारी रिंकेश लालवानी ने बताया कि 2 महीने के बाद दुकान खोलने से उत्साह का माहौल है। अब व्यापार रोजगार फिर से शुरू हो सकेगा।दुकानें बंद होने के कारण व्यापार थम सा गया था। कोरोना से बचने के उपायों के साथ मार्केट खुल रही हैं।तब सबको इसका ख्याल रखना अनिवार्य होगा।


उल्लेखनीय है कि कपड़ा बाजार तो खुल गया लेकिन इसके साथ ही व्यापारियों के सामने कुछ दिनों तक नवीन समस्या आते रहेंगी जैसे कि बीवर का पेमेंट प्रोसेसर का पेमेंट श्रमिकों का पगार इसके अलावा आने वाले दिनों में रिटर्न गुड्स के लिए भी व्यापारियों को तैयार रहना पड़ेगा।